मंडी, जागरण संवाददाता। छोटी काशी के 24 अस्पतालों में कायाकल्प के माध्यम से धनवर्षा हुई है। कायाकल्प योजना में सरकाघाट और करसोग अस्पताल प्रदेश भर में दूसरे स्थान पर रहे थे, जबकि जिला स्तर पर 19 पीएचसी अस्पतालों और दो हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर भी सूची में शामिल हैं। लगभग 35 लाख की इनामी राशि इसके तहत जारी हुई है।

कायाकल्प योजना के तहत प्रदेश भर के अस्पतालों का दौरा स्वास्थ्य विभाग की टीम करती है। इसमें मई माह में जारी हुए वर्ष 2020-21 के परिणाम में आरएच किन्नौर को प्रदेश भर में पहला व मंडी के सिविल अस्पताल सरकाघाट को दूसरा स्थान मिला था। इसके अलावा मंडी के 23 अन्य अस्पतालों को भी सूचीबद्ध़ किया गया था। सरकाघाट को दूसरे स्थान पर रहने के लिए 15, सीएच करसोग को पांच लाख। जिला स्तर पर 19 पीएचसी में पंडोह को पहले स्थान के लिए दो लाख और 18 पीएचसी को 50-50 हजार तथा दो हेल्थ वैलनेस सेंटर टांडू को एक लाख व कोहरा को 50 हजार रुपये की राशि दी गई है। नेशनल हेल्थ मिशन की ओर से यह राशि विभाग को जारी कर दी गई है। अब इस राशि को इन अस्पतालों में बेहतर सुविधा देने के लिए खर्च किया जाएगा। शुक्रवार को हुई जिला स्तरीय गुणवत्ता कमेटी की बैठक में भी इसको लेकर चर्चा की गई। बैठक में उपायुक्त अङ्क्षरदम चौधरी, सीएमओ डा. देवेंद्र शर्मा, जिला स्वास्थ्य अधिकारी दिनेश ठाकुर सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। उपायुक्त ने इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की प्रशंसा की।

सुंदरनगर अस्पताल लक्ष्य योजना के लिए चयनित

स्वास्थ्य विभाग की लक्ष्य योजना के तहत बेहतर प्रसव सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए सिविल अस्पताल सुंदरनगर का चयन हुआ है। योजना के तहत जोनल अस्पताल मंडी व नेरचौक भी सूची में थे। इसमें सुंदरनगर ने 90 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं।

जिला स्वास्थ्य विभाग गुणवत्ता स्तर पर बेहतर काम कर रहा है। कायाकल्प में भी जिला के 24 अस्पताल पुरस्कृत हुए हैं।

अङ्क्षरदम चौधरी, उपायुक्त मंडी

Edited By: Virender Kumar