शिमला, राज्य ब्यूरो। प्रदेश में भारी बारिश से नुकसान होने का सिलसिला थम नहीं रहा है। सोमवार को मंडी व शिमला जिला में 14 मकानों को नुकसान पहुंचा है। मंडी जिला में छह मकान व चार गौशालाएं क्षतिग्रस्त हुईं। प्रदेश में 218 सड़कें यातायात के लिए बंद हैं। सोमवार को 46 पेयजल योजनाओं से आपूर्ति नहीं हो सकी। लोक निर्माण विभाग की मशीनरी बंद पड़ी सड़कों को खोलने का प्रयास कर रही है। पेयजल आपूर्ति बहाल करने का भी प्रयास किया जा रहा है।

मौसम विभाग ने बुधवार व वीरवार को कुछ जिलों के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। विभाग के निदेशक सुरेंद्र पाल का कहना है कि सात दिन के दौरान प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में हल्की बारिश होगी। वहीं, 24 घंटे के दौरान शिमला जिला में 87, मंडी में 70 व कुल्लू जिला में ही 33 सड़कें बंद रहीं। लाहुल-स्पीति जिला में 45 पेयजल योजनाओं से आपूर्ति नहीं हो सकी। बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज की है। हिमाचल प्रदेश के कई हिस्सों में दोपहर तक धूप खिली रही। बाद दोपहर कई स्थानों पर बारिश दर्ज की गई। सोमवार को जोगेंद्रनगर में सबसे ज्यादा 31.5 मिलीमीटर बारिश हुई। इसके अलावा शिमला के नारकंडा में 26, खड़ापत्थर में 16, कुफरी मेंं 12, पालमपुर व मंडी में 11-11 मिलीमीटर बारिश हुई। कांगड़ा के सनौरा में बारिश का पानी लोगों के घरों में घुस गया।

 

रशकट नाले में बाढ़ से पांच घंटे बंद रहा मणिकर्ण-बरशौणी

लगातार बारिश से सोमवार को कुल्लू जिले के मणिकर्ण रशकट नाले में बाढ़ आ गई। इससे कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है। बाढ़ के कारण मणिकर्ण-बरशौणी मार्ग पर करीब पांच घंटे वाहनों की आवाजाही बाधित रही। प्रत्यक्षदर्शी नरेश कुमार ने बताया कि रशकट नाले में पानी का बहाव तेज हो गया है जिस कारण वाहनों की आवाजाही कुछ समय के लिए बंद रही।

कहां कितना रहा तापमान (डिग्री सेल्सियस)

स्थान,न्यूनतम,अधिकतम

शिमला,17.2,21.5

सुंदरनगर,21.2,32.2

भुंतर,19.6,31.9

कल्पा,13.4,23.8

धर्मशाला,20.6,28.4

ऊना,25.8,34.4

नाहन,23.8,27.8

केलंग,11.8,22.2

पालमपुर,19.5,26.3

सोलन,20.5,28.0

मनाली,15.2,25.6

चंबा,20.8,31.3

डलहौजी,16.7,21.6

कुफरी,16.0,17.3

Edited By: Vijay Bhushan