सुनील राणा, देहरा

1750.96 लाख रुपये खर्च करने के बाद भी देहरा के 100 फीसद घरों-परिसरों को अभी तक सीवरेज सुविधा नहीं मिली है। हालांकि जलशक्ति विभाग का कहना है कि करीब दो साल पहले 98 फीसद कार्य पूरा कर इसे चालू किया जा चुका है। इसके बावजूद किसी न किसी वजह से कई घर व परिसर सीवरेज कनेक्शन की बाट जोह रहे हैं। तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने 13 जनवरी 2007 को देहरा में सीवरेज परियोजना का शिलान्यास किया था। 2011 में जलशक्ति विभाग ने इसका निर्माण कार्य शुरू किया। शहर के सात वार्डों के हिसाब से इसे चार जोन में बांटकर चार ठेकेदारों को कार्य सौंपा गया। विभाग ने शहर के 850 घरों व परिसरों को सीवरेज से जोड़ने का लक्ष्य रखा था। अब तक 565 कनेक्शन स्वीकृत हुए हैं, जिसमें से 420 जारी किए जा चुके हैं। कहीं पर कनेक्शन न होने के बावजूद लोगों को बिल थमाया जा रहा है। करीब दो साल पहले दुकान व मकान में सीवरेज कनेक्शन के लिए आवेदन किया था। कनेक्शन तो अभी तक नहीं मिला है, लेकिन विभाग ने पहली अक्टूबर को 1135 रुपये का बिल भेज दिया है।

-डा. वीके गौतम निचला इलाका होने से वार्ड सात में 100 से अधिक घरों को सीवरेज सुविधा नहीं मिली है। यहां से गुजरते नाले के साथ पाइपें आसानी से जोड़ी जा सकती हैं। सर्वे करते समय इसका ध्यान नहीं रखा गया है।

-नवीन वैद इलाके में एक तरफ ही पाइप बिछाई गई है। मेरी दुकान को सीवरेज कनेक्शन मिला है, लेकिन सड़क पार मकान को नहीं। कनेक्शन के लिए काफी समय पहले आवेदन किया था, लेकिन कोई जवाब नहीं आया।

-रणजीत चौहान कनेक्शन के लिए काफी समय पहले आवेदन किया था। सड़क पार स्थित भवनों को सीवरेज सुविधा मिली है, लेकिन इस ओर किसी भी दुकान व मकान को सीवरेज लाइन से नहीं जोड़ा जा रहा है।

-राजिद्र परमार सीवरेज की सुविधा सबको मिलनी चाहिए। हो सकता है कि किसी वजह से कोई घर इससे न जुड़ पाया हो। जलशक्ति विभाग के अधिकारियों से बात कर लोगों को सुविधा दिलाने की कोशिश करेंगे।

-सुनीता कुमारी, अध्यक्ष, नगर परिषद देहरा कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में सीवरेज परियोजना मंजूर हुई थी और लाखों रुपये के बजट का भी समय पर प्रविधान किया गया था। निर्माण कार्य में अनियमितता बरती गई है। प्रदेश में कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने पर इस मामले की जांच करवाई जाएगी।

-सपन सूद, जिला कांग्रेस प्रवक्ता

लोगों को कनेक्शन लेने के लिए लगातार जागरूक कर रहे हैं। सीवरेज के लिए पाइप ग्रेविटी फ्लो में ही डाली जा सकती है। निर्माण कार्य के दौरान हर वार्ड में सभी घरों को सीवरेज से जोड़ने का प्रयास किया है। कुछ मकान या परिसर सीवरेज पाइप से निचले इलाके में हो सकते हैं। इन्हें सीवरेज से जोड़ने के लिए संभावनाएं तलाशी जाएंगी।

-राजेश कानूनगो, अधिशाषी अभियंता, जल शक्ति विभाग देहरा

Edited By: Jagran