धर्मशाला, जागरण संवाददाता। कांगड़ा जिले में बुधवार को 897 लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं। साथ ही 17 मरीजों की मौत हुई है व 814 संक्रमित स्वस्थ हुए हैं। संक्रमितों में तिब्बतियन चिल्ड्रन विलेज (टीसीवी) धर्मशाला के 33 बच्चे शामिल हैं और इनकी आयु 12 से 15 वर्ष के बीच है। प्रशासन ने टीसीवी को कंटेनमेंट जोन बना दिया है। यहां तिब्बती समुदाय के 200 से अधिक बच्चे रहते हैं और स्वास्थ्य विभाग सभी के कोरोना सैंपल लेगा।

कोरोना संक्रमण से मरने वालों में घराणा का 46 वर्षीय व्यक्ति, देहरा का 62 वर्षीय व्यक्ति, कच्छियारी का 59 वर्षीय व्यक्ति, राजोल का 67 वर्षीय, सुनहेत का 68 वर्षीय व्यक्ति, खंडवाल की 45 वर्षीय महिला, संधेहरा नगरोटा का 78 वर्षीय व्यक्ति, हारसी का 58 वर्षीय व्यक्ति, साई थुरल का 60 वर्षीय व्यक्ति, कांगड़ा के वार्ड चार की महिला, कंडबाड़ी का 67 वर्षीय व्यक्ति, पालमपुर का 99 वर्षीय व्यक्ति, नगरोटा बगवां का 45 वर्षीय व्यक्ति, पपरोला-बैजनाथ का 64 वर्षीय व्यक्ति, पट्टी की 62 वर्षीय महिला और दाड़ी की 57 वर्षीय महिला शामिल है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी कांगड़ा डा. गुरदर्शन गुप्ता ने बताया कि संक्रमित हुए लोग भड़मोली, चोहला, महाकाल, थुरल, धर्मशाला, नूरपुर, डाडासीबा, टीसीवी मैक्लोडगंज, डसोली, गुरियाल, छत्र नूरपुर, गगल खास, बरवाला, चौकी खलेट, टंबर, हटली, नरवाणा, सुनपुर, बुरली कोठी, राजपुर, लोहना, पट्टी, आईमा, लांझणी, लुदरेट, कथोली, इंद्रा कॉलोनी हरिपुर, नंदपुर, नगरोटा सूरियां, बरियाल, बलदोहा, सुकनाड़ा, गढ़, गुग्गा सलोह, वनतुंली, अमलेला, सिविल बाजार धर्मशाला, घियोरी, तंगरोटी, वाल्मीकि कॉलोनी धर्मशाला, सकोह, खौली टांडा, सुधेड़ व फरेढ़ क्षेत्रों के हैं।

इसके अलावा खौली, मंझग्रां, दुरगेला, पंचरुखी, राजा का तालाब, मुंढ़ी, धीरा, सरोत्री, अरला, पालमपुर, खैरा, बनूरी, मारंडा, बंदला, घुग्घर, कंडी पालमपुर, भट्टू समुला, रैहन, फतेहपुर, इंदौरा, जवाली, गोलवां, कंदौड़, सिविल अस्पताल नूरपुर, धमेटा, पंदेहड़, चड़ी, बगली, बणे दी हट्टी, खरट, स्लेट गोदाम, कुकाहड़, सिविल अस्पताल भवारना, संसाल, पट्टा, सिद्धपुर, दाड़ी, सिद्धबाड़ी, सकोह, शामनगर, मैक्लोडगंज, घरोह, खनियारा, धर्मशाला, चामुंडा, भागसूनाग, नगरोटा बगवां, धर्मकोट, कोतवाली बाजार, चीलगाड़ी धर्मशाला, सिविल लाइन धर्मशाला, नरवाणा, कच्छियारी, चैतडू, डढंब, राजोल, अनसुई, लदबाड़ा, लपियाणा, बसनूर, डोहब, रैत, छतड़ी, कांगड़ा, टांडा, सिहुंता, जयसिंहपुर, लंबागांव, थुरल, बैराघट्टा, मस्सल, चच्चियां, जौंटा, हरसर, सकड़ी, घार जरोट, अमलेला, बिलासपुर, डाडासीबा, नंगल, रक्कड़, चनौर, ढलियारा, लगडू, हरिपुर, सुरानी, बासा, नूरपुर, पासू, राजोल, मनेड़, नंदेहड़, मटौर, तियारा, ढुगियारी, इच्छी, ललेहड़, समीरपुर, मसरेहड़ व बीरता क्षेत्रों के लोग भी वैश्विक महामारी की चपेट में आए हैं।