संवाद सहयोगी, हमीरपुर : सैनिक सीएसडी कैंटीन के खुलने पर पूर्व सैनिकों की खासी भीड़ जमा हो गई। इस दौरान पूर्व सैनिकों व उनके स्वजनों ने शारीरिक दूरी के नियम भी तोड़े। सामान खरीदने के लिए अफरा तफरी का माहौल बन गया।

कैंटीन में लोगों को फोन कॉल के आधार पर ही पंजीकरण संख्या नंबर दिए गए थे। कुछ पूर्व सैनिक बिना फोन किए ही कैंटीन पहुंच गए। पूर्व सैनिकों ने आरोप लगाया कि कैंटीन संचालक ने अपने चेहतों को ही फोन कॉल की थीं। लालडी निवासी कैप्टन जयचंद, सूबेदार सुनील सिंह, होशियार सिंह, सूबेदार जय चंद नुगवाल, कैप्टन स्वरूप चंद, सूबेदार पूर्ण चंद कटोच , सूबेदार नेक राम, हवलदार जैसी राम, सूबेदार प्रभात सिंह, नायक जगदीश चंद, मनदीप कुमार, प्रेमराज, नायक प्रीतम सिंह, बलवीर सिंह, हवलदार जोगिद्र सिंह व अन्य पूर्व सैनिकों ने ऑनलाइन पंजीकरण का विरोध किया। कहा कैंटीन में आने वाले पूर्व सैनिकों को पंजीकरण रजिस्टर के माध्यम से ही कैंटीन सुविधा का लाभ प्रदान किया जाए।

दूसरी ओर इस सदंर्भ सीएसडी कैंटीन हमीरपुर के प्रबंधक पीएस खरबाल ने बताया कि इस सुविधा का लाभ पूर्व सैनिकों को ऑनलाइन सेवा के माध्यम से ही प्रदान किया गया है। दूरभाष नंबर के माध्यम से 100 लोगों को मंगलवार को कैंटीन की सुविधा प्रदान की गई। 20 हजार के करीब पूर्व सैनिक कैंटीन धारक हैं। एक साथ सभी लोग फोन कॉल करने में लगे रहेंगे तो कब किस का नंबर आएगा ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस