संवाद सहयोगी, बड़सर : लगातार हो रही बारिश के कारण बिझड़ी बाजार ने तालाब का रूप धारण कर लिया है। सड़क के बीचोंबीच पानी खड़ा रहने से राहगीरों, वाहन चालकों खासकर दुकानदारों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। स्थानीय व्यापारियों द्वारा समस्या के समाधान की मांग की है, लेकिन समस्या ज्यों की त्यों है। हालत यह है कि वाहन गुजरने पर बारिश का पानी दुकानों के अंदर घुस रहा है। बाजार की नालियां बंद पड़ी हैं। बारिश होने पर बाजार तालाब का रूप धारण कर लेता है। बाजार की सड़क पूरी तरह उखड़ चुकी है, जगह-जगह गड्ढों की भरमार है। सब पता होने के बावजूद विभागीय अधिकारी लापरवाह बने हुए हैं। जबकि यह सड़क उत्तरी भारत के विश्व विख्यात सिद्धपीठ बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध को जाती है। इस सड़क मार्ग पर श्रद्धालुओं के वाहनों की आवाजाही रहती है। लेकिन बिझड़ी बाजार में यह सड़क इतनी खस्ताहाल में है कि गाड़ी चलाना तो दूर पैदल चलना भी किसी खतरे से खाली नहीं है।

लोक निर्माण विभाग मंडल बड़सर ने गत दिनों बिझड़ी बाजार में नाममात्र पैचवर्क करवाकर लीपापोती कर दी, लेकिन यह पैचवर्क मात्र 15 दिनों में ही उखड़ गया।

क्षेत्र वासियों रमेश चंद, राकेश शर्मा, तरसेम ¨सह, जगतार ¨सह, संजय कुमार, मुकेश कुमार, राजेश कुमार आदि का कहना है कि कई बार विभागीय अधिकारियों को बिझड़ी बाजार की नालियों व बाजार में पड़े बडे-बड़े गड्ढों को भरने की कई बार गुहार लगाई, लेकिन लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों पर इसका कोई असर नहीं हुआ है।

वहीं, अधिशाषी अभियंता बड़सर प्रमोद कश्यप का कहना है कि विभागीय लेवर की कमी के चलते समस्या आ रही है। बाजार में पेवर टाइल लगने के बाद ही समस्या का समाधान होगा।

Posted By: Jagran