संवाद सहयोगी, जाहू : वैसे तो बच्चे अपनी मां से पल भर भी दूर नहीं रहते, लेकिन 25 दिन तक चार वर्षीय रोनित को अपनी मां पूजा रानी से दूर रहना पड़ा। मां के प्यार की कमी को दादा-दादी ने पूरी की और पूजा का कोरोना योद्धा के रूप में पूर्ण सहयोग दिया है।

हमीरपुर जिला के भोरंज उपमंडल की जाहू पंचायत के सुलगवान गांव की पूजा रानी भोरंज अस्पताल में स्टॉफ नर्स है। वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान पूजा रानी को स्वास्थ्य विभाग ने एनआइटी हमीरपुर संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर में कोरोना संक्रमित रोगियों की निगरानी के लिए नियुक्त किया था। इसके बाद उसे 14 दिन तक विद्युत विभाग के विश्रामगृह मटनसिद्ध में क्वारंटाइन रहना पड़ा। कोरोना सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर 25 दिन के बाद अपने घर सुलगवान पहुंची पूजा का ग्रामीण महिलाओं व स्वजनों ने फूलमालाएं पहनाकर भव्य स्वागत किया। इस दौरान उसके चार वर्षीय बेटे रोनित ने भी अपनी मां को फूल दिया। पूजा के पति गगनदीप डोगरा गुजरात में मर्चेट नेवी में इंजीनियर हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस