संवाद सहयोगी, भोटा : राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला डिडवी में आयोजित बाल विज्ञान सम्मेलन के दूसरे दिन जिला विज्ञान पर्यवेक्षक अश्वनी चम्बयाल ने मॉडल प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि बच्चों द्वारा मॉडल एवं प्रोजेक्ट बनाना विशेष प्रतियोगता है। इसके तहत बच्चे अपने मन के विचारों को वैज्ञानिक सोच के साथ मॉडल में प्रस्तुत करते हैं। साथ ही बच्चों को वैज्ञानिक उपकरणों की कार्य विधि का ज्ञान होता है। आज देश में गंभीर समस्या कूड़ा कर्कट के निष्पादन की है, बच्चे इसे ऊपर व समाधान के लिए नए प्रोजेक्ट तैयार कर सकते हैं। चम्बयाल ने शिक्षकों से आग्रह किया कि वे बच्चों को बेसिक साइंस के साथ जोड़े। प्रदर्शनी में 35 स्कूलों के बच्चों ने मॉडल पेश किए। कुछ बच्चों ने वर्षा के पानी के सदुपयोग, प्रदूषण, आदर्श गांव, आपदा प्रबंधन एवं मिनरल वाटर पर मॉडल बनाए। चम्बयाल ने मेगनेट पब्लिक स्कूल के छात्र अंशुल द्वारा प्रस्तुत मॉडल स्मार्ट ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम की सराहना की तथा इसे प्रतियोगता में प्रथम घोषित किया। इस मॉडल द्वारा ऑटोमैटिक सिस्टम से वाहन के चालक गाड़ी शराब पीकर चला रहा हो, लाइसेंस के बिना हो, हेलमेट के बिना हो तो सेंसर उसको पकड़ लेगा तथा वाहन का चालान हो जाएगा। इस मौके पर सुशील चौहान, संजीव ठाकुर, सोनी शर्मा, प्रीतम ¨सह, प्रवीण ¨सह व अन्य उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस