संवाद सहयोगी, जाहू : भोरंज विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मुंडखर को सरकार की ओर से उत्कृष्ट स्कूल बनाया गया है। इस स्कूल ने प्रदेश को एक जज से लेकर महिला नर्सिग लेफ्टिनेंट और कई प्रशासनिक अधिकारी दिए हैं। बच्चों को गुणात्मक शिक्षा मिले तथा स्कूल का शैक्षणिक ढांचा सुदृढ़ हो इसके लिए प्रदेश सरकार ने 44 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की है।

मुंडखर स्कूल की स्थापना प्राथमिक पाठशाला के रूप में स्थानीय शिक्षक रिवाल सिंह ने आठ जुलाई, 1913 को की। इसके बाद इस पाठशाला ने जिला शिक्षा परिषद के अधीन कई उतार-चढ़ाव देखे व उन्नति प्राप्त की। स्थानीय ग्रामीणों की मांग पर पहली अप्रैल, 1957 को माध्यमिक, 1965 में स्तरोन्नत करके उच्च तथा 29 दिसंबर, 1997 को वरिष्ठ माध्यमिक के रूप में स्तरोन्न किया। स्कूल ने 1968 से लेकर 2014 तक प्रदेश को कई काबिल अधिकारी दिए हैं। स्कूल से दो भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी, 25 प्रधानाचार्य, पांच मुख्याध्यापक व अन्य अधिकारी दिए हैं। वर्तमान में भोरंज तहसील के तहसीलदार अनिल कुमार मनकोटिया भी इसी स्कूल के छात्र रहे हैं।

स्कूल में 44 लाख से उच्च शिक्षा के लिए पोडियम सिस्टम, बच्चों के शारीरिक व सांस्कृतिक विकास के लिए जिम व खेल की सुविधा और स्कूल परिसर में औषधीय पौधों से वनस्पति उद्यान विकसित किया जाएगा। इसके अलावा विज्ञान प्रयोगशाला में आधुनिक यंत्र स्थापित होंगे।

उधर, स्कूल के एसएमसी अध्यक्ष कमल कुमार, पंचायत उपप्रधान व पूर्व एसएमसी अध्यक्ष कमल प्रसाद का कहना है कि मुंडखर स्कूल में बच्चों को बेहतरीन शिक्षा दी जाती है।

-----------------

मुंडखर स्कूल को उत्कृष्ट स्कूल का दर्जा मिलने पर 44 लाख रुपये स्वीकृत हुए हैं। इससे जहां स्कूल का विकास होगी, वहीं बच्चों को आधुनिक शिक्षा की सुविधा मिलेगी। इस स्कूल से एक जज से लेकर दो भारतीय प्रशासनिक अधिकारी, डाक्टर, प्राध्यापक, प्रधानाचार्य, मुख्याध्यापक व अन्य अधिकारी दिए हैं।

-स्नेहा शर्मा, प्रधानाचार्य मुंडखर स्कूल

----------------

ये हैं 'अखंड शिक्षा ज्योति मेरे स्कूल से निकले मोती'

-अवतार सिंह सत्र न्यायाधीश शिमला हाई कोर्ट।

-अरुण शर्मा भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी।

-हेमराज शर्मा निदेशक बागवानी।

-कुलदीप सिंह एमबीबीएस।

-प्रदीप कुमार भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी।

-अनिल कुमार सहायक प्राध्यापक।

-नीरज शर्मा, वरिष्ठ आवासीय चिकित्सक।

-अनिल मनकोटिया तहसीलदार भोरंज।

-देवेंद्र सिंह, सहायक प्राध्यापक।

-महेंद्र सिंह एमबीबीएस।

-कार्तिक शर्मा एमबीबीएस।

-राजन कुमार ड्रग इंस्पेक्टर।

-सुनिधि ठाकुर नर्सिंग लेफ्टिनेंट।

Edited By: Jagran