बीड़, जेएनएन। पैराग्लाडिंग लैंडिंग साइट बीड़ में टूरिज्म पार्क बीड़ के साथ निर्माणाधीन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पैराग्लाइ¨डग को लेकर लोगों ने आपत्ति जताई है। शुक्रवार को शहरी निकायों सहित पंचायत बीड़, महिला मंडल, युवक मंडल के सदस्यों ने बीड़ पार्क क्षेत्र में आदर्श आचार संहिता के दौरान राष्ट्रीय पैराग्लाइ¨डग भवन निर्माण का कार्य रोकने की प्रशासन ने मांग की है। ग्रामीणों को कहना है कि बीड़ में एकमात्र हरित पर्यटक स्थल के संरक्षण को लेकर ग्रामीण एकजुट हुए हैं। इसमें विद्यमान सैकड़ों प्रूनस और पलम के पेड़ों को खतरा बना हुआ है। इस संस्थान का निर्माण से यह पार्क पूरी तरह से नष्ट हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि पार्क के आसपास के क्षेत्र में पहले से ही एक बड़ी इमारत है। जहां पैराग्लाइडिंग का नेशनल इंस्टीट्यूट संस्थान पहले से ही स्थापित है। वर्ष 2002 में निर्मित भवन वर्तमान में जर्जर स्थिति में गैर-कार्यात्मक और अप्रकाशित है। उन्होंने मांग की कि संस्थान का निर्माण पैराग्लाइडिंग के लैंडिंग स्थल पर किया जाना चाहिए, जो पैराग्लाइडिंग गतिविधियों का मुख्य क्षेत्र है। इस स्थान पर पेड़ भी नहीं हैं और यह जगह पैराग्लाइ¨डग गतिविधियों के लिए बहुत ही उपयुक्त स्थल है। इस मौके पर प्रधान तृप्ता देवी, उप प्रधान सुरेश कुमार व पंचायत प्रतिनिधि थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप