नाहन, जेएनएन। शिलाई क्षेत्र के एक गांव में बाल विवाह के बाद तीन नाबालिग लड़कियों के गर्भवती होने का मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार तीनों का विवाह तीन वर्ष पहले हुआ था। मामले में महिला एवं बाल विकास विभाग की लापरवाही भी सामने आ रही है। विभाग पूरे मामले को लेकर अब तक अंजान बन रहा

है। हालांकि विभाग इस बात को मान रहा है कि इसकी जानकारी उन्हें पुलिस को देनी चाहिए थी।

इन तीनों में एक की उम्र महज 15 साल बताई जा रही है, जबकि यह आठ माह की गर्भवती बताई जा रही है। उपमंडल शिलाई क्षेत्र के एक ही गांव की इन तीन नाबालिग लड़कियों कि उम्र बहुत कम बताई जा रही हैं।

इसमें पहली 15, दूसरी 16 व तीसरी 17 साल की है, जोकि 7 से 8 माह की गर्भवती हैं। इसके चलते इतनी कम उम्र में गर्भवती होने के कारण इनकी जान जोखिम में होने से भी इंकार नहीं किया जा सकता।

मामला बाल विवाह से जुड़ा है। बताया जा रहा है कि तीन साल पहले तीनों किशोरियों की एक गांव में शादी हुई थी। लेकिन, बाल विवाह की बात मानने के लिए कोई भी तैयार नहीं है।  आंगनवाड़ी कार्यकर्ता इन तीनों

लड़कियों के घर गई थी, मगर उस वक्त तीनों की उम्र 19 साल बताई गई थी। जब इनसे उम्र के प्रमाण पत्र मांगे

गए, तो उनके पास कोई प्रमाण पत्र नहीं थे। हालांकि उन्होंने माना कि उन्हें समय रहते पुलिस को इस मामले की

जानकारी दे देनी चाहिए थी।  उधर, सीडब्ल्यूसी विजयश्री गौतम ने मामले की पुष्टि की है। वहीं महिला एवं बाल विकास विभाग के डीपीओ अर्जुन नेगी ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है और कार्रवाई की जा रही है।   

Posted By: Babita