रामपुर बुशहर, जेएनएन। अतिरिक्त सत्र एवं जिला न्यायाधीश किन्नौर स्थित रामपुर की अदालत ने सामूहिक दुष्कर्म का आरोप साबित होने पर सोमवार को दो लोगों को दस वर्ष के कठोर कारावास एवं जुर्माने की सजा सुनाई। उप जिला न्यायवादी रामपुर कुलभूषण गौतम ने बताया कि 25 अक्टूबर 2010 को पीडि़ता ने झाकड़ी थाना में मामला दर्ज करवाया था कि 23 अक्टूबर शाम सात बजे घर की लाइट चली गई। जब उसने लाइट चेक करने के लिए दरवाजा खोला तो दोषी कैलाश चंद व अमर सिंह उसके कमरे में आए और दोनों ने उससे दुष्कर्म किया।

इस दौरान महिला की आंख में भी चोट आई थी। दोषियों ने महिला को धमकाया कि यदि उसने इस बारे में किसी को कुछ बताया तो जान से मार देंगे। मामले की छानबीन तत्कालीन सहायक उप निरीक्षक ओम प्रकाश ने की। छानबीन के दौरान महिला की मेडिकल जांच करवाई गई और महिला के घर पर काटी गई बिजली की तार को भी कब्जे में लिया गया। अभियोजन पक्ष की ओर से मुकदमे की पैरवी कुलभूषण गौतम ने की। अदालत ने दोषी कैलाश व अमर सिंह को दस वर्ष की कठोर सजा, घर में अनाधिकृत प्रवेश करने पर दो वर्ष का साधारण कारावास, चोट पहुंचाने के लिए तीन माह की साधारण कारावास की सजा सुनाई है।

अदालत ने विभिन्न धाराओं के तहत दोनों को 24-24 हजार रुपये जुर्माना अदा करने का आदेश दिया। जुर्माना अदा न करने की सूरत में दोनों को एक वर्ष का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। अदालत ने जुर्माना राशि को पीडि़ता को बतौर हर्जाना अदा करने के आदेश दिए हैं।

 

By Babita