निजी बस ऑपरेटरों की मंगलवार को दूसरे दिन भी हड़ताल के कारण लोगों की जान आफत में रही और एचआरटीसी के चालक भी परेशान रहे। इसकी वजह यह रही कि आखिर चालक भी कितनी सवारियां बसों में बैठाएं। निगम की ज्यादातर गाड़ियां ओवरलोड रहीं। यह आलम धर्मशाला में दिनभर रहा। जैसे ही कचहरी चौक पर निगम की बस गुजरे तो यात्रियों की भीड़ उमड़ पड़े। ज्यादातर परेशानी उस समय आई जब स्कूलों व सरकारी कार्यालयों में छुट्टी हुई। हालांकि एचआरटीसी ने अतिरिक्त बसें चलाई थीं लेकिन वे भी यात्रियों से खचाखच भरी रही।

.....................

'हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही। मंडी सर्किट हाउस में सरकार के साथ बैठक होगी और उसके बाद जो भी फैसला आएगा उसके मुताबिक ही या तो हड़ताल रद की जाएगी या फिर जारी रहेगी।'

-हैप्पी अवस्थी, अध्यक्ष निजी बस ऑपरेटर यूनियन कांगड़ा।

......................

'धर्मशाला डिपो से नगरोटा बगवां, पालमपुर, कांगड़ा व शाहपुर की ओर करीब 60 अतिरिक्त बसें चलाई गई। धर्मशाला, कांगड़ा, मटौर, गगल व शाहपुर में इंस्पेक्टरों की तैनाती की थी। मैंने खुद कई स्थानों में निरीक्षण किया है। निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल से पहले दिन धर्मशाला डिपो को तीन लाख रुपये का फायदा हुआ है।'

-पंकज चड्ढा, क्षेत्रीय प्रबंधक

.........................

'यात्रियों की सुविधा के लिए दूसरे दिन एचआरटीसी ने धर्मशाला, पठानकोट, पालमपुर, बैजनाथ व नगरोटा बगवां से 230 अधिक अतिरिक्त बसें चलाई हैं।

-राजकुमार जरयाल, मंडलीय प्रबंधक धर्मशाला

........................

परेशान हुए स्कूली बच्चे

संवाद सहयोगी, योल : निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल के कारण योल व श्री चामुंडा में यात्रियों व स्कूली बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

..........................

धमेटा में बेहतरीन रही बस सेवा

संवाद सूत्र, धमेटा : हड़ताल के दौरान बेहतरीन बस सेवा के लिए क्षेत्रवासियों ने एचआरटीसी के पठानकोट डिपो का आभार जताया है। क्षेत्रवासियों जसमेर राणा, पूर्ण चंद, कुलदीप पठानिया, प्यार चंद, नरिंद्र पठानिया, ओंकार सिंह, अशोक कुमार, विनय व तेजराम ने कहा कि पठानकोट डिपो के आरएम विनोद ठाकुर ने बेहतरीन बस सेवा उपलब्ध करवाई। प्रस्तुति: संवाद सहयोगी, धर्मशाला

Posted By: Jagran