जागरण संवाददाता, धर्मशाला : भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा हिंदी राजभाषा पखवाड़ा के अंतर्गत राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक छात्र पाठशाला धर्मशाला में बच्चों के लिए विशेष प्रतियोगिता का आयोजन किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सहायक आयुक्त कागड़ा किरण भडाना ने की। इसमें जिला कागड़ा के विभिन्न स्कूलों से 100 विद्यार्थियों ने भाग लिया। इस दौरान भाषण, निबंध एवं प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। किरन भडाना ने बच्चों के साथ अनुभव साझा किए। उन्होंने बच्चों से मन लगाकर पढ़ने और लक्ष्य निर्धारित कर उसे साधने का आह्वान किया। उन्होंने बच्चों को पुरस्कृत किया। इस मौके भाषण प्रतियोगिता में दयानंद राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला धर्मशाला की श्रेया पंडित ने प्रथम, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सकोह के दीपक ने दूसरा और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला फरसेटगंज की छात्रा आकृति ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जंदरागल की साक्षी को सात्वना पुरस्कार दिया गया।

निबंध प्रतियोगिता में पहला एवं दूसरा स्थान राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सकोह की छात्राओं क्रमश: प्रीति एवं कोमल तथा तृतीय स्थान राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कन्या धर्मशाला की शामली ने प्राप्त किया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जंदरागल की छात्रा मधु देवी को सांत्वना पुरस्कार से सम्मानित किया गया। प्रश्नोत्तरी में प्रथम पुरस्कार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पासू की छात्रा शिवागी और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कन्या धर्मशाला की संगीता एवं राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला फरसेटगंज की शालिनी ने संयुक्त रूप से द्वितीय स्थान व तीसरा पुरस्कार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला फरसेटगंज की छात्रा सुनिधि ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।

निर्णायक मंडल में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय क्षेत्रीय अध्ययन केंद्र खनियारा के सहायक आचार्य डॉ. केवल राम, राजकीय स्नातकोतर महाविद्यालय धर्मशाला के सहायक प्राध्यापक हरीश कुमार एवं संस्कृत महाविद्यालय चामुंडा की आचार्य अंजू शामिल रहीं। इस दौरान जिला भाषा अधिकारी सुरेश राणा ने कहा कि भाषा एवं संस्कृति विभाग इस तरह के कार्यक्रम भविष्य में भी आयोजित करता रहेगा। विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को राज्यस्तरीय प्रतियोगिता गेयटी थियेटर शिमला में भाग लेने का अवसर मिलेगा।

Posted By: Jagran