संवाद सहयोगी, धर्मशाला : प्रदेश में अब लेंटाना खत्म होगा। साथ ही यह बेरोजगारों के लिए रोजगार के साधन भी खोलेगा। प्रदेश सरकार ने हिमाचल में 25 बायो प्लांट बनाने के लिए मंजूरी दे दी है। देहरा हलके में पहला बायो प्लांट बनेगा और इसका शिलान्यास जल्द मुख्यमंत्री से करवाया जाएगा। यह बात बुधवार को धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत में देहरा के विधायक होशियार सिंह ने कही।

उन्होंने बताया कि बायो प्लांट में ईंटें तैयार की जाएंगी और इसके लिए बेरोजगारों युवाओं से एकत्रित लेंटाना व चीड़ की पत्तियां 100 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीदी जाएंगी। युवाओं को केवल सड़क किनारे ही इन्हें पहुंचाना होगा, जहां मशीनरी पहुंचाकर लेंटाना का पाउडर बनाया जाएगा और बाद में प्लांट में ईंटें बनाकर आगे सीमेंट व अन्य उद्योगों को बेची जाएंगी। बकौल होशियार सिंह, इस संबंध में उन्होंने स्वयं शोध कर मशीन डेवल्प की है और इसके सकारात्मक परिणाम भविष्य में सामने आएंगे। इस बाबत संस्था का निर्माण किया जा चुका है और जल्द सोसायटी का गठन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि बायो प्लांट लगाने के लिए युवाओं को 25 लाख रुपये तक का ऋण 50 फीसद सबसिडी पर मिलेगा। उपरोक्त प्लांटों से पर्यावरण संरक्षण के साथ-साथ घर द्वार पर बेरोजगारों को रोजगार के साधन भी पैदा होंगे। उन्होंने बताया कि देहरा में सीआरपीएफ के ट्रेनिग सेंटर का रास्ता साफ हो गया है और इस संबंध में सरकार ने स्वीकृति दे दी है। 250 एकड़ भूमि पर सेंटर का निर्माण होगा और इससे देहरा विधानसभा क्षेत्र के करीब 10 हजार लोगों को लाभ मिलेगा। इसके अलावा देहरा के हरिपुर को लोनिवि उपमंडल का दर्जा भी सरकार ने दे दिया है। पौंग विस्थापितों के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि 18 वर्ष बाद राजस्थान सरकार ने दोबारा मुरब्बों की अलॉटमेंट शुरू की है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस