संवाद सहयोगी, नूरपुर : मलकवाल-ठेहड़ मार्ग पर चेली गाव (नूरपुर) में नौ अप्रैल को स्कूल बस हादसा हुआ था। जांच से असंतुष्ट मृतकों के परिजनों ने इस हादसे की सीबीआइ जांच की मांग की है।

हादसे में मारे गए बच्चों की आत्मा की शाति के लिए के लिए परिजनों ने माथे पर काली पट्टी बाधकर घटनास्थल पर शोकसभा का आयोजन किया। इस मौके पर समाजसेवक संजय शर्मा भी मौजूद रहे। लोगों ने मृतक बच्चों के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि भेंट की। संजय शर्मा ने कहा कि स्कूल बस हादसे में 24 बच्चों सहित कुल 28 लोगों की दर्दनाक मौत हुई थी, लेकिन सरकार अभी तक इस हादसे की सच्चाई सामने नहीं ला सकी है। मृतक बच्चों के परिजन सरकार, पुलिस व प्रशासन की जाच से नाखुश हैं। सरकार इस मामले की सीबीआइ जाच करवाए।

वहीं मृतक बच्चों के परिजनों ने भी न्याय न मिलने पर गहरा रोष जताया। उन्होंने कहा कि वह बच्चों को न्याय दिलाने के लिए उनके परिजनों के साथ हैं। मृतक बच्चे के परिजन विक्रम सिंह ने कहा कि वह सरकार की जाच से सहमत नहीं हैं। जब यह हादसा हुआ था तो सरकार व नेताओं ने इस मामले की निष्पक्ष जाच करने का भरोसा दिलाया था, लेकिन आज उन्हें ऐसा लग रहा है जैसे इस मामले में सरकार आरोपितों के साथ है। इस हादसे को पाच माह का समय बीत चुका है, लेकिन सरकार अभी तक हादसे के कारणों का पता नहीं कर पाई है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने इस मामले की जाच की जिम्मा सीबीआइ को नहीं सौंपा तो परिजन संघर्ष कर सकते हैं। बच्चों को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष किसी भी हद तक जा सकता है। इस मौके पर मृतक बच्चों के परिजनों अजय व कुसुमलता ने भी विचार प्रकट किए।

Posted By: Jagran