पालमपुर, जेएनएन। आठ साल से कैंसर बीमारी से जूझ रहे अरला निवासी पवन कुमार को सरकारी सहायता न मिलने से बुजुर्ग अपने हाल में जीने के लिए मजबूर है। पत्नी सोनू कुमारी मनरेगा में दिहाड़ी लगाकर दो बच्चों की शिक्षा सहित पति को संभालने में जुटी है, मगर पति की बीमारी के चलते दिहाड़ी भी मुश्किल होती जा रही है। पति की बीमारी में होने वाले खर्च व दो बच्चों को शिक्षा देना अब परिवार के लिए असंभव होता जा रहा है। हालांकि गरीब परिवार की स्थिति को देखते हुए वार्ड-सात के लोगों ने 47 हजार रुपये एकत्रित कर पवन कुमार के उपचार में खर्च किए मगर इससे अस्पताल का खर्च भी मुश्किल से बहन हो सका है।

वर्तमान में परिवार पर दु:खों को पहाड़ टूट पड़ा है। सोनू कुमारी ने बताया कि आठ साल में प्रशासन व सरकार भी परिवार को इलाज के लिए आर्थिक मदद नहीं कर पाई है वहीं मनरेगा के तहत मिलने वाली सुविधाएं भी अभी तक नहीं मिल पाईं हैं। उन्होंने बताया कि दो बच्चों को शिक्षा देने के लिए भी पैसे नहीं है जबकि पति की हालत दिनोंदिन बदतर होती जा रही है। सोनू अपने पति को गंभीर बीमारी से पीड़ित देखकर दूसरे घरों में काम करती है। परिवार के पास खेती योग्य भूमि भी नहीं है।

समाजसेवी संजय शर्मा ने दिए पांच हजार रुपये समाजसेवी संजय शर्मा ने कैंसर पीड़ित अरला निवासी पवन कुमार के घर पहुंचकर उनका कुशलक्षेम पूछा। वहीं उन्होंने पवन कुमार की पीड़ा को देखते हुए पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की। समाजसेवी संजय शर्मा ऐसे की अलग-अलग मामलों में गत दिनों लाहला, बिंद्रावन व अन्य स्थानों में जाकर गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोगों के दु:खों में साथ खड़े देखे गए हैं।