-भरमौर में परियोजना सलाहकार समिति की बैठक में दिए निर्देश

-जनजातीय उपयोजना के तहत 50 करोड़ 10 लाख की धनराशि होगी व्यय संवाद सहयोगी, भरमौर : भरमौर में सिचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के पाइप लाइन बिछाने व अन्य कार्यो को अधर में लटकाने वाले ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। कार्य लटकाने वाले ठेकेदारों की लिस्ट जारी करने के निर्देश दिए गए हैं। वीरवार को जनजातीय क्षेत्र भरमौर उपमंडल के मुख्यालय मिनी सचिवालय के सभागार भवन में परियोजना सलाहकार समिति की बैठक हुई। इस मौके पर बैठक की अध्यक्षता करते हुए विधायक जियालाल कपूर व एसडीएम पीपी सिंह ने सिचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को निर्देश जारी किए। बैठक के दौरान कहा कि भरमौर के विकास कार्यों पर इस वित्तीय वर्ष में जनजातीय उपयोजना के तहत 50 करोड़ 10 लाख की धनराशि व्यय की जा रही है। विशेष केंद्रीय सहायता योजना के तहत 50 लाख 97 हजार की धनराशि आवंटित की गई है। उन्होंने कहा कि तिमाही में 24 करोड 42 लाख जनजातीय उपयोजना के तहत अब तक खर्च किए गए हैं तथा विशेष केंद्रीय सहायता योजना में 21 लाख की धनराशि व्यय की गई है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि 31 दिसंबर 2019 तक निर्धारित मापदंडों के अनुरूप आवंटित धनराशि विकासात्मक कार्य पर खर्च करना सुनिश्चित बनाएं। विधायक जियालाल कपूर ने कहा कि इस क्षेत्र में विकास कार्य करने के लिए कम समय अवधि है लिहाजा अधिकारी व कर्मचारी गण तत्परता से विकास कार्यों को अंजाम दें, ताकि क्षेत्र का चौमुखी विकास सुनिश्चित बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि भरमौर के 10 युवकों को भेड़ की ऊन उतरवाने का भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन्हें विशेष प्रशिक्षण के लिए हिसार में भेजा जाएगा। बैठक में वन मंडल अधिकारी वन्य प्राणी चंबा का कार्यभार वन मंडल अधिकारी भरमौर को सौंपने का निर्णय लिया गया। बैठक में अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी पीपी सिंह, उपमंडल अधिकारी नागरिक मनीष सोनी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी चंबा डॉ राजेश गुलेरी, जनजातीय सलाहकार परिषद के सदस्य सत्यप्रसाद व राकेश ज रियाल, पंचायत समिति अध्यक्षा नीलम ठाकुर उपाध्यक्ष अरुण कुमार मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस