संवाद सहयोगी, चंबा : जिले में पहली जून से निजी बसें सड़क पर नहीं चलेंगी। निजी परिवहन संघ चंबा ने इस बारे में स्पष्ट कर दिया है कि जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा तब तक वे बसों को नहीं चलाएंगे।

शुक्रवार को निजी परिवहन संघ ने अध्यक्ष रवि महाजन की अध्यक्षता में आरटीओ ओंकार सिंह को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर रवि महाजन ने बताया कि प्रदेश सरकार ने सरकारी बसों के चालक व परिचालकों का 50 लाख का बीमा कर दिया है। वहीं अन्य सुविधाएं भी सरकारी चालकों परिचालकों के लिए की गई हैं, लेकिन निजी बसों के चालक व परिचालकों के लिए कोई योजना व पैकेज नहीं दिया गया है जबकि सरकार के दिशा निर्देश पर सभी बसों को खड़ा कर दिया गया था। बीते 72 दिनों से निजी बसें नहीं चल पा रही हैं जिससे उन्हें काफी नुकसान हुआ है। इसके अलावा सरकार ने बसों को चलाने का फैसला तो कर दिया है लेकिन स्कूल, कॉलेज बंद हैं। वहीं, लोग भी कोरोना खतरे को देखते हुए घर में ही बैठे हुए हैं। सरकारी कार्यालयों में भी आधे कर्मचारी ड्यूटी पर आ रहे हैं। ऐसे में अगर वे बसों को चलाते हैं तो उन्हें हर रूट में घाटा होगा। सरकार के निर्देशों में भी मौजूदा समय में केवल 60 प्रतिशत सवारी बसों में बैठा सकते हैं। इन शर्तों पर तेल का खर्चा, मरम्मत, चालक-परिचालक की तनख्वाह भी नहीं निकल सकती है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार निजी बस संचालकों के लिए विशेष पैकेज जारी करे ताकि वे बसों को रूट पर चला सकें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस