संवाद सहयोगी, चंबा : निजी बस ऑपरेटर यूनियन चंबा ने मांगों के समर्थन में 10 सितंबर को हड़ताल करने का फैसला लिया है। यूनियन के सदस्यों ने जिला में नौ सितंबर रात 12 बजे से निजी बसों को बंद करने का फैसला किया है। ऐसे में जिला चंबा में करीब 125 बस रूट प्रभावित होंगे। चंबा में तीसा, भरमौर, सलूणी, डहलौजी समेत अन्य विभिन्न रूटों पर 125 बसें दौड़ती हैं। वहीं, हड़ताल से भरमौर में इन दिनों मणिमहेश यात्रा भी प्रभावित होगी। चंबा से भरमौर व होली के लिए 16 रूटों पर निजी बसें दौड़ती हैं।

निजी बस ऑपरेटर यूनियन चंबा के अध्यक्ष रवि महाजन ने बताया कि उनकी यूनियन की हड़ताल नौ सितंबर रात 12 बजे से हड़ताल शुरू करेगी। इस दौरान कोई भी निजी बस नहीं दौड़ेगी। उन्होंने बताया कि इस बीच अगर सरकार उनकी मांगों को मान लेती है तो इसका फैसला भी राज्य यूनियन करेगी। उन्होंने निजी बस ऑपरेटरों से अपील की है कि उक्त तिथि के दौरान कोई भी बस ऑपरेटर अपनी बस न चलाए। शनिवार को निजी बस ऑपरेटर यूनियन चंबा ने सदर विधायक पवन नैय्यर के माध्यम से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को ज्ञापन भेजा है। उन्होंने बताया कि उनकी हड़ताल शांतिपूर्ण होगी। मणिमहेश यात्रा पर दिखेगा असर

निजी बस ऑपरेटरों के हड़ताल पर जाने से चंबा में मणिमहेश यात्रा पर इसका काफी असर पड़ेगा। चंबा में मणिमहेश यात्रा जारी है। इसके चलते काफी तादाद में मणिमहेश के लिए यात्री रवाना हो रहे हैं। चंबा में निजी बसें भी भरमौर के लिए दौड़ रही हैं। ऐसे में यात्रा के दौरान निजी बस सेवा बंद होने से यात्रियों की दिक्कत बढ़ जाएगी। ये हैं बस ऑपरेटरों की मांगें

बस ऑपरेटरों की मांग है कि प्रति माह पा¨सग टैक्स के अलावा ग्रीन टैक्स देना पड़ रहा है जिससे उन्हें काफी घाटा पड़ रहा है। उन्होंने मांग की है कि ग्रीन टैक्स को तत्काल प्रभाव से खत्म किया जाए। इसके अलावा न्यूनतम किराया दस रुपये निर्धारित किया जाए। सरकार ने डीजल के दाम में बढ़ोतरी की है, लेकिन किराया नहीं बढ़ाया है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि किराये में 50 फीसद बढ़ोतरी की जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस