-डलहौजी के पर्यटन कारोबार पर पड़ा असर, व्यवसायी मायूस

संवाद सहयोगी, डलहौजी : कोरोना संक्रमण के मामलों में हो रही बढ़ोतरी का असर पर्यटन व्यवसाय पर भी दिखने लगा है। पर्यटन नगरी डलहौजी के होटलों में महाराष्ट्र, गुजरात व दिल्ली आदि कई राज्यों से पर्यटकों की ओर से करवाई गई अग्रिम बुकिग रद की जा रही है। होटल कारोबारियों के अनुसार अब तक करीब 70 से 80 फीसद तक अग्रिम बुकिग रद हो चुकी है, जिससे की पर्यटन व्यवसाय पर फिर से संकट के बादल छा गए हैं।

डलहौजी में हिमपात के बाद विटर सीजन काफी अच्छा रहता है, लेकिन वर्ष 2020 की शुरूआत में कोरोना महामारी के फैलने के बाद डलहौजी का गर्मियों व सर्दियों का सीजन पूरी तरह से पिट गया था, जिससे पर्यटन कारोबारियों को भारी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा। कुछ माह पहले कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आने के बाद पर्यटन कारोबार धीरे-धीरे फिर से पटरी पर लौटने लगा था, जिसके चलते दिसंबर माह का पर्यटन सीजन डलहौजी में खूब अच्छा रहा। हिमपात होने के साथ ही डलहौजी में जनवरी माह के पहले सप्ताह तक काफी संख्या में पर्यटक पहुंच रहे थे, लेकिन कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी होने के बाद और बंदिशें लगने के बाद पर्यटक अपने घरों से निकलने से परहेज करने लगे हैं। होटल एसोसिएशन डलहौजी के मुख्य संरक्षक मनोज चड्ढा ने कहा की कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी होने से डलहौजी के अधिकतर होटलों में लगभग 70 प्रतिशत अग्रिम बुकिग रद हो गई है। हालांकि होटल संचालक सरकार की ओर से जारी एसओपी की पूर्ण रूप से पालना कर रहे हैं। वहीं होटल एसोसिएशन डलहौजी के उपाध्यक्ष करन मोंगा ने कहा कि होटलों में विभिन्न राज्यों के पर्यटकों की अग्रिम बुकिग 70 से 80 प्रतिशत तक रद हो गई है।

Edited By: Jagran