संवाद सहयोगी, तेलका : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) इकाई तेलका की ओर से मांगों के संबंध में उपतहसील तेलका में नायब तहसीलदार के माध्यम से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को ज्ञापन प्रेषित किया। विद्यार्थी परिषद के इकाई सचिव अनिकेत शर्मा ने कहा कि तेलका कालेज में विद्यार्थियों को कई असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है।

2017 में यह महाविद्यालय खोला गया था। पूर्व कांग्रेस सरकार के शासनकाल में केवल एक प्राचार्य के सहारे पूरा महाविद्यालय चला रहा। प्रदेश में विद्यार्थी परिषद के आंदोलन और मांगों के चलते नई सरकार आने के बाद कई महाविद्यालयों में रिक्त पद भरे, लेकिन वर्तमान में राजकीय महाविद्यालय तेलका में न तो प्राचार्य का पद भरा हुआ है और न ही अर्थशास्त्र, इतिहास तथा बीकाम विषय के प्राध्यापकों का। रिक्त पदों के कारण यहां विद्यार्थियों को शिक्षा ग्रहण करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जब से महाविद्यालय खुला है, तब से इतिहास विषय के शिक्षक का पद न तो पूर्व सरकार भर पाई है और न ही वर्तमान सरकार ने इसे भरने के लिए कोई प्रयास किए हैं। पूर्व सरकार ने भी इस महाविद्यालय के नाम पर रोटियां सेंकने का काम किया है। वर्तमान सरकार की मंशा भी इसी प्रकार की दिखाई दे रही है।

उन्होंने कहा कि जब तेलका में महाविद्यालय खोला गया था तो स्थानीय विद्यार्थियों में खुशी की लहर दौड़ गई थी। ऐसा इसलिए, क्योंकि अब उन्हें शिक्षा ग्रहण करके कई किलोमीटर का सफर कर सलूणी या चंबा जाने की जरूरत नहीं रही थी। विद्यार्थियों को उम्मीद थी कि यहां पर सभी विषयों के प्राध्यापकों की नियुक्ति होगी, जिससे उन्हें बेहतर शिक्षा मिलेगी, लेकिन प्राध्यापकों के पद न भरे जाने से उनमें सरकार के खिलाफ रोष है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग की है कि जल्द से जल्द विद्यार्थियों की मांगों को पूरा किया जाए, ताकि दूरदराज से शिक्षा ग्रहण करने के लिए यहां पहुंचने वाले विद्यार्थियों को दिक्कतों का सामना न करना पड़े। इस मौके पर इकाई अध्यक्ष अंकित विकास शर्मा तथा अमन सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Edited By: Jagran