संवाद सहयोगी, पांगी : किलाड़ से कुफा, प्रमस व सेरिभटवास को अलग कर नई पंचायत बनाने की घोषणा के बाद हर दिन कोई न कोई आपत्ति एसडीएम के माध्यम से उपायुक्त के समक्ष रखी जा रही है लेकिन लोगों की फरियाद सुनने को कोई तैयार नहीं है। यह आरोप कुफा के लोगों ने लगाए हैं।

शनिवार को कुफा मुहाल (प्रजामंडल) के लोगों ने परिसीमन को गलत बताते हुए विधायक जियालाल कपूर का वन विभाग के ईको टूरिज्म विश्राम गृह के बाहर घेराव किया। स्थिति को देखते हुए विधायक को वापस विश्राम गृह में जाना पड़ा। कुफा निवासी हरी लाल, ओमप्रकाश, धर्म सिंह, भगवान चंद, रतन चंद, राम किशन, कैलाश चंद, सुभाष चौहान, कमला, अनिता कुमारी, छलौ, सेवो, चंपा कुमारी, लीला कुमारी, देवेंद्र कुमार, शेर चंद, मान सिंह आदि ने कहा कि उनके वार्ड से बेवजह छेड़छाड़ की गई है। पांगी मुख्यालय, मालरोड, किलाड़ मुख्य बाजार का ऊपर का हिस्सा पहले से कुफा वार्ड में था, जो इसी वार्ड में रहना चाहिए। आयुर्वेदिक अस्पताल से बस स्टैंड तक का क्षेत्र पहले वार्ड सात कुफा में था, जो लोअर कुफा वार्ड दो का हिस्सा होना चाहिए। सरकारी कार्यालय आवास कालोनी कुफा वार्ड सात का हिस्सा थी, जो नई पंचायत में रहनी चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि कुफा मुहाल को अलग-अलग भागों में बांटा गया तो वे सड़क पर उतरेंगे और पंचायत चुनाव का बहिष्कार करेंगे। जरूरत पड़ी तो न्यायालय का दरवाजा खटखटाया जाएगा। कुछ लोगों ने कहा कि किलाड़ भाजपा की गिरती साख को बचाने के लिए और कुछ नेताओं के आपसी झगड़े के कारण पंचायत को दो भागों में बांटा गया है। विधायक के इशारे पर कुफा मुहाल के कुछ क्षेत्र को किलाड़ पंचायत में इसलिए मिलाया जा रहा है ताकि यह पंचायत कहीं आरक्षित श्रेणी में न आए। विधायक ने प्रजामंडल को आश्वासन दिया कि पांगी प्रशासन से बात कर समस्या हल कर दी जाएगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस