संवाद सहयोगी, बिलासपुर : निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल का खामियाजा जनता को ज्यादा भुगतना पड़ा। लोगों घरों तक पहुंचने के लिए काफी देर तक बसों का इंतजार करना पडा। लोगों को उन रूटों पर जाने के लिए के लिए अधिक परेशानी का सामना करना पडा, जहां पर केवल निजी बसें ही जाती थी। एचआरटीसी ने लोगों की आवश्यकता को देखते हुए बसें लगा दी थी लेकिन फिर भी दिक्कतें दूर नहीं हुई।

-----------------------

रामपाल ने बताया कि उन्होंने दयोथ जाना था। एक घंटे तक इंतजार करने पर बस नहीं आई। निजी बस आपरेटरों की हड़ताल से केवल उन्हें ही अन्य लोगों को भी दिक्कतें आई।

----------------------

सुंदर राम ने बताया कि वह सुबह से बस का इंतजार करते रहे लेकिन परिवहन सुविधा नहीं मिली। उन्होंन चरणमोड जाना था लेकिन बस न होने केवल परेशानी ही मिली।

---------------------

पोलू राम ने बताया कि उन्होंने नम्होल जाना था लेकिन बस न मिलने से काफी परेशानी हुई। बिलासपुर पहुंचने के लिए वह घर से जल्दी ही निकल आए थे लेकिन परेशानी से पीछा नहीं छूटा।

----------------------

आत्मा राम का कहना है कि वह ही नहीं अपितु निजी बस ऑपरेटर की हड़ताल से अन्य लोग भी परेशान हुए। हालांकि एचआरटीसी ने बसें चला रखी थी लेकिन फिर कई रूटों पर बसों के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा।

Posted By: Jagran