संवाद सहयोगी, घुमारवीं : घुमारवीं उपमंडल के ग्रामीण इलाकों में बेशक लोगों निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल से मुशिकलें आई लेकिन एचआरटीसी की ओर से किए गए प्रबंधों ने भी लोगों को काफी हद तक राहत दी। हड़ताल के बाद एचआरटीसी के किए गए इंतजाम से लोग खुश नजर आए। घुमारवीं में लोगों को एचआरटीसी की ओर से बेहतर परिवहन सुविधा देने के प्रयास सफल होते नजर आए। लोगों को हड़ताल से थोड़ी असुविधा तो हुई लेकिन एचआरटीसी ने हर रूट पर सरकारी बस चलाकर लोगों राहत दी।

--------------------

बलबीर ¨सह ने बताया कि वे किसी कार्य के लिए घुमारवीं आए थे। वापसी पर उन्हें कुछ देर के लिए इंतजार जरूर करना पड़ा लेकिन एचआरटीसी की बस सुविधा मिलने से घर पहुंच गए।

---------------------

अभिषेक कुमार ने बताया कि वह शिमला के लिए निकले थे। एचआरटीसी ने घुमारवीं में लोगों की सुविधा के लिए लगभग सभी रूट पर बसों की व्यवस्था की है।

-----------------------

संजू ने बताया कि वह घुमारवीं में दुकान करते हैं। भराड़ी से वह एचआरटीसी बस में आए। बस में भीड़ थी। एचआरटीसी को ओर अधिक बस लदरौर के लिए लगानी चाहिए।

--------------------

अक्षय ने बताया कि लदरौर जाने के लिए लगभग एक घंटे तक बस का इंतजार करना पड़ा। भले ही एचआरटीसी ने मोर्चा संभाल लिया हो लेकिन परिवहन सुविधा को और मजबूत करे।

---------------------

अंकित का कहना है कि वह एचआरटीसी की परिवहन सुविधा से संतुष्ट हैं। लोगों को भी संयम बरतते हुए एचआरटीसी का हड़ताल के समय सहयोग करना चाहिए।

Posted By: Jagran