संवाद सहयोगी, दधोल : गेहड़वी की ग्राम पंचायत समोह के गांव रैली को जाने वाली सड़क 22 वर्ष बाद भी पक्की नहीं हुई है। ग्रामीणों ने वर्ष 1996 में लगभग एक लाख रुपये से बरठीं से बिलासपुर जाने वाली सड़क से राजकीय माध्यमिक स्कूल रैली तक लगभग एक किलोमीटर पांच सौ मीटर सड़क बनाई थी लेकिन इसे पक्का करने के लिए संबंधित विभाग कुछ नहीं कर पाया है। बरसात में यह सड़क बिलकुल बंद हो जाती है। अगर गांव में कोई बीमार पड़ जाए तो उसे पालकी में बिठाकर सड़क तक ले जाना पड़ता है। कुछ समय पहले पंचायत ने सड़क पर मनरेगा से रोड़ी डाली गई थी मगर अब वो भी बह गई है। ग्रामीण कहते हैं कि अगर जल्द समस्या का समाधान न हुआ तो वो लोकसभा चुनावों का बहिष्कार करेंगे।

----------------------

राकेश गौरा का कहना कि सड़क खराब होने से गाड़ी को यहां वहां खड़ा करना पड़ता है। इसे जल्द पक्का किया जाना चाहिए।

----------------------

सुनील कुमार का कहना है कि एंबुलेंस सुविधा का लाभ भी सड़क कच्ची होने के कारण नहीं मिल रहा है। समस्या का जल्द हल हो।

----------------------

चुनी लाल का कहना है कि उन्होंने तो गांव तक सड़क बनाई लेकिन अब इसे पक्का करने के लिए कोई भी आगे नहीं आ रहा है।

----------------------

मनोज कुमार का कहना है कि इस इस कच्ची सड़क पर आज दिन तक किसी ने ध्यान नहीं दिया है। उनकी समस्या का जल्द निपटारा हो।

----------------------

विजय पाल शर्मा का कहना है कि अगर इस सड़क को जल्द पक्का न किया गया तो 2019 के लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करेंगे।

Posted By: Jagran