संवाद सहयोगी, बरमाणा : श्रीराधाकृष्ण आश्रम चमलोग में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव हर्षोल्लास से मनाई गई। हजारों भक्तों ने मंदिर में शीश नवाया और भंडारे का प्रसाद ग्रहण किया। बाबा कमलदास न कहा कि भगवान श्रीकृष्ण का जीवन सबको प्रेम, विनयशीलता व सदा प्रसन्न रहने का संदेश देता है। कैसी भी परिस्थिति आए हमें निराश नहीं होना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण के जीवन में कितनी कठिनाईयां आई लेकिन उन्होंने कभी हारना नहीं सीखा। हर परेशानी को हंसते हंसते पार कर गए। हमें भी उनके जीवन से प्रेरणा लेकर सदा मुस्कराते हुए उत्साह के साथ हर परिस्थिति का सामना करना चाहिए।

Posted By: Jagran