दिक्कत

प्रशासन व पंचायत प्रतिनिधि नहीं कर रहे समस्या का समाधान

पशुओं को बचाते हादसे का शिकार हो रहे चालक व लोग

संवाद सहयोगी, भगेड़ : कंदरौर हमीरपुर मार्ग तथा क्षेत्रीय सड़कों पर बेसहारा घूम रहे पशु लोगों की जान की खतरा बने हुए हैं लेकिन प्रशासन तथा पंचायत स्तर पर कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। पशुओं की तादाद बढ़ती जा रही है जिससे सड़कों पर हादसों में वृद्धि होने का खतरा बना रहता है। आए दिन सड़कों पर हो रहे हादसे इसी बात की ओर संकेत करते हैं कि अधिकांश हादसे पशुओं को बचाने के चक्कर में हुए हैं। पशुओं की बढ़ती तादाद के कारण किसानों ने उपजाऊ भूमि को भी बंजर छोड़ दिया है। कई गांव में लोग ठीकरी पहरा दे कर अपनी फसल को बचाने का भरपूर प्रयास कर रहे हैं। प्रेमदास, जमनादास, प्रकाश चंद, मदनलाल, मनोहरलाल, गुरूदेव कोशल, राजेंद्र कुमार, राजेश कुमार, जगदीश चंद तथा बलीराम का कहना है कि ग्राम पंचायत औहर के अधिकांश गांव में बेसहारा पशुओं की तादाद इतनी बढ़ गई है कि दिन के समय सड़क के बीच डेरा जमा लेते हैं और रात होते ही खेतों की ओर रुख करते हैं। पलथी गांव के ग्राम सुधार सभा के प्रधान जगदीश शर्मा ने बताया कि बेसहारा पशु फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। पशु हिसक हो चुका हैं और अब तो यह मारने को दौड़ते हैं। यदि प्रति पंचायत में गौसदन का निर्माण होता है तो समस्या का समाधान होना था तथा हादसों में भी कमी आनी थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस