जागरण संवाददाता, घुमारवीं : राजकीय पीजी कॉलेज परिसर में मंगलवार को आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने घुमारवीं हलके के लोगों की सहूलियत के लिए कई घोषणाओं की एक साथ झड़ी लगा दी। सरकार व विधायक के समीकरणों के फिट नहीं बैठने के पुराने समीकरणों को विराम देते हुए जयराम ठाकुर ने वर्षो का सूखा खत्म करते हुए ऐलान किया कि एसडीएम समेत सभी सरकारी दफ्तरों को एक छत के नीचे लाने के लिए मिनी सचिवालय का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए जल्द ही जमीन देखकर इस पर काम शुरू करने के लिए उन्होंने विभाग को निर्देश भी दिए। साथ ही घुमारवीं विस हलके का ह्रदय स्थल कहे जाने वाले भराड़ी उपतहसील के तहत घंडालवीं क्षेत्र में भी कॉलेज खोले जाने की संभावनाओं को खोजकर जल्द ही निर्णय करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने डंगार स्थित संस्कृत महाविद्यालय के सरकारीकरण का ऐलान करते हुए विभाग को जल्द ही तमाम औपचारिकताएं पूरी करके इस घोषणा को लागू करने का निर्देश दिया है।

नागरिक अस्पताल घुमारवीं को सौ बिस्तर तथा भराड़ी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को 50 बिस्तरों वाले अस्पताल के स्तरोन्नयन का भी ऐलान किया। घुमारवीं में हिमाचल पथ परिवहन निगम का सब-डिपो खोलने का भी ऐलान किया।

मुख्यमंत्री ने आज इससे पूर्व घुमारवीं में 2.80 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले जिला उपन्यायवादी, सहायक •िाला न्यायवादी तथा सार्वजनिक अभियोजक कार्यालय की आधारशिला रखी। उन्होंने 5.28 करोड़ रुपये की लागत से स्तरोन्नत होने वाली पनोह-टकरेड़ा-तराउंतरा-घुमारवीं सड़क का भूमि पूजन भी किया।

मुख्यमंत्री ने 1.42 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित उठाऊ पेयजल योजना का लोकार्पण किया। यह योजना बाड़ी-करणगौड़ा के तहत बस्तियों को लाभान्वित करेगी। योजना से क्षेत्र की 15 बस्तियों के लोग लाभान्वित होंगे। उन्होंने 8.40 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली लदरौर-जाहू सड़क वाया हटवाड़ का भी भूमि पूजन किया।

इसके अलावा 2.34 करोड़ रुपये की लागत से संवर्धित उठाऊ पेयजल योजना सेऊ-बढ़ाघाट-नसावल का भी लोकार्पण किया। इस परियोजना से क्षेत्र की 21 बस्तियों के लोगों को पेयजल सुविधा मिलेगी। उन्होंने राजकीय महाविद्यालय घुमारवीं में 93 लाख रुपये की लागत से निर्मित पुस्तकालय का भी शुभारंभ किया।

उन्होंने आम यात्रियों की सुविधा के लिए घुमारवीं में ओवर हैड पैदल पुल का निर्माण करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि घुमारवीं में औद्योगिक क्षेत्र को विकसित किया जाएगा। डिग्री कॉलेज घुमारवीं में आगामी शैक्षणिक सत्र से एमकॉम, एमए राजनीति शास्त्र, वनस्पति विज्ञान, जीव विज्ञान तथा रसायन विज्ञान की स्नातकोतर कक्षाएं आरंभ की जाएंगी।

मुख्यमंत्री ने राजकीय उच्च विद्यालय मुंडखर तथा सोहल को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं तथा राजकीय माध्यमिक को उच्च पाठशाला में स्तरोन्नत करने की घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स योजना चरण-दो के तहत घुमारवीं शहर के लिए कोल बांध से जलापूर्ति योजना लाने के प्रयास किए जाएंगे।

इससे पूर्व बार एसोसिएशन घुमारवीं पुस्तकालय घुमारवीं में पुस्तकों तथा फर्नीचर के लिए पांच लाख रुपये की घोषणा की। डिग्री कॉलेज के स्टॉफ तथा विद्यार्थियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 51000 रुपये का चेक भेंट किया।

Posted By: Jagran