संवाद सहयोगी, दधोल : कंदरौर-हमीरपुर सड़क पर बनने वाले डबललेन सड़क का निर्माण कार्य में लगी कंपनी के द्वारा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला दधोल के समीप सड़क की दशा न सुधारने से सड़क की हालत खस्ता हो गई है। सड़क की दशा इतनी अधिक खराब हो गई है कि वाहनों के गुजरने पर धूल उड़ रही हैं। जिसके कारण सबसे अधिक परेशानी स्थानीय लोगों, दुकानदारों तथा स्कूल में पढ़ने वाले विद्याíथयों को झेलनी पड़ा रही है। कंपनी ने सड़क का निर्माण कार्य करीब डेढ़ वर्ष पूर्व बंद कर दिया है। इस स्थान पर सड़क की टा¨रग उखड़ने से गड्ढे ही गड्ढे बन गए हैं। सड़क का हाल कच्ची सड़क से भी बदतर हो गया है। जब भी कोई वाहन सड़क से गुजरता है है धूल का गुब्बारा उसके साथ चलता है। जिसके कारण आस-पास के घरों, शिक्षा संस्थानों में धूल ही धूल जमा हो रही है। लोगों का सांस लेना दूभर हो गया है। स्थानीय लोगों द्वारा उच्च मार्ग 103 के अधिशाषी अभियन्ता व जेई को कई बार समस्या के बारे में अवगत करवाया गया है। लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हो पाया है।

--------------

वाहनों के साथ उड़ रही धूल के कारण पाठशाला में बुरा हाल है। सांस लेने में कठिनाई हो रही है। सुबह जब पाठशाला पहुंचते हैं तो सारे कमरे धूल से भरे होते हैं।

रामकृष्ण, प्रधानाचार्य, दधोल स्कूल

---------

धूल के कारण उन्हें सांस लेने में कठिनाई हो रही है। इस बारे उन्होंने उपायुक्त बिलासपुर एवं एसडीएम घुमारवीं को इस बारे में शिकायत की थी। लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो पाया है। धूल से दुकानों में रखा सामान भी खराब हो रहा है।

नरेश कुमार, दुकानदार

-------------

पिछले डेढ वर्षों से सड़क का बुरा हाल है। वाहनों के साथ उड़ने वाली धूल से स्कूलों में पढ़ने वाले विद्याíथयों में बीमारियों के फैलने का डर बना हुआ है।

यशपाल रणौत, प्रवक्ता

------------

धूल के कारण बच्चों का बुरा हाल है सुबह साफ कपड़ों में बच्चे स्कूल आते हैं तथा शाम को कपड़ों की हालत खराब हो जाती है। बच्चों में बीमारी फैलने का खतरा बढ़ रहा है।

कुसुमलता, प्रधानाचार्य, हिम आंचल पब्लिक स्कूल दयोल

-----------

वाहनों के साथ उड़ रही धूल से स्कूल के कमरे भर जाते है। बच्चों का बैठना मुश्किल हो जाता है। बच्चों की पढाई प्रभावित हो रही है। वह सुबह साफ कपड़ों में स्कूल पहुंचते हैं लेकिन शाम को कपड़े पूरी तरह धूल से खराब हो जाते हैं।

-मनीषा राणा, छात्रा

-------------

सड़क पर चलना मुश्किल हो गया है। वाहनों से इतनी अधिक धूल उड़ती है कि आगे या पीछे से आ रही गाडी दिखाई नही देती है। ऐसे में इस स्थान पर दुर्घटना का खतरा बढ़ जाता है। विभाग की लापरवाही कभी भी किसी पर भी भारी पड़ सकती है।

-अक्षय पटियाल, छात्र

Posted By: Jagran