कंवर ग्रेवाल ने सूफियाना गायन से लोगों को परमात्मा से जोड़ा

जागरण संवाददाता, यमुनानगर : जिला स्तरीय गीता महोत्सव-2019 में शिक्षण संस्थाओं के छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। अध्यक्षता उपायुक्त मुकुल कुमार ने की। प्रस्तुति देने वाले कलाकारों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

सांस्कृतिक संध्या में विख्यात सूफी गायक कंवर ग्रेवाल ने लंबे समय तक अपने सूफी गायन की प्रस्तुति दी। पूर्व उन्होंने श्रीमछ्वागवत गीता को नमन किया। जैसे ही इश्क बुल्ले नू नचावे यार वे नचना पैंदा ए, सामने होवे यार ते नचना पैंदा ए. की प्रस्तुति दी तो पूरा पंडाल झूम उठा। इसके बाद उन्होंने दिल मेरे मेहरवा वे, मस्त बना देंगे बीबा, मै ओहदी गठरी बंध बैठा जो नाल नी जाना., मै कमली की जाना., जित्थे चलेगा चलूंगी नाल तेरे टिकटा दो लै ली. आदि सूफी गीतों की प्रस्तुति दी जिन पर लोग झूम उठे। ग्रेवाल ने अपनी सूफी गायन की ऐसी कला दिखाई जिससे लोग उनकी गायन कला के कायल हो गए। दर्शकों को नाचने के लिए मजबूर कर दिया। पूर्व कुरूक्षेत्र के हरिकेश ने गणमान्य व्यक्तियों, मीडिया प्रतिनिधियों व लोगों को रंग बिरंगी पगडिय़ा बांधी। हरिकेश का 9 सेकेंड में पगड़ी बांधने का रिकार्ड है।

उपायुक्त मुकुल कुमार ने यमुनानगर की धरती पर सभी कलाकारों का सम्मान है। सूफी गायक कंवर ग्रेवाल ने आज की सांस्कृतिक संध्या में चार चांद लगा दिए है। उन्होंने अपने सूफियाना गायन से लोगों को सीधा परमात्मा से जोड़ा है। साथ ही कलाकारों ने घूम्मर, फाग, एकल नृत्य और रागिनी गायन की प्रस्तुति दी जिसे लोगों ने खुब सराहा। हिमांशु ने कार्यक्रम पेश किया। शेम्यु थापा पार्टी ने नेपाली डांस, छात्रा एंजल ने ग्लोबिग वार्मिग पर व्याख्यान व बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ पर कविता, स. तेजपाल ने स्वयं द्वारा बेटियों के मान-सम्मान पर लिखित कविता की प्रस्तुति दी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस