मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, यमुनानगर : वही हुआ जिसका डर था। खुले आसमान के नीचे लगे स्टॉक (ओपन प्लिंथ) में गेहूं सड़ने लगा है। जगाधरी अनाज मंडी में बानगी सामने आई है। यहां स्टॉक से गेहूं उठाना शुरू किया तो हालात देखकर मजदूर भी दंग रह गए। हालांकि इनको तिरपाल से पूरी तरह ढका हुआ है, लेकिन बारिश नहीं झेल पाए। गेहूं के भंडारण के लिए पर्याप्त गोदाम न होने के कारण अनाज मंडी जगाधरी, छछरौली, औद्योगिक क्षेत्र सहित अन्य कई जगहों पर खुले आसमान के नीचे की गेहूं के स्टॉक लगे हैं। दो माह पहले किया था स्टॉक

गेहूं की खरीद का सीजन पूरा होने के बाद मई-जून माह में फूड सप्लाई, हैफेड और वेयर हाउस ने गेहूं को ओपन में स्टॉक कर लिया, क्योंकि सरकार के पास अनाज को सुरक्षित रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में गोदाम नहीं हैं। अब ये गेहूं उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों में डिमांड के आधार पर भेजा जा रहा है। सोमवार को अनाज मंडी जगाधरी से गेहूं उठाया गया, जिस प्लिंथ से गेहूं उठा है, उसमें ऐसे कट्टों की संख्या कम नहीं है जो अब से पहले खराब हो चुके हैं। कुछ गेहूं सड़ चुकी है, कुछ सड़ने के कगार पर है। जिले में भंडारण की यह क्षमता

खाद्य औरआपूर्ति विभाग के कार्यालय के परिसर : 8400 टन

जगाधरी : 10 हजार टन

जगाधरी स्टैंड : 10 हजार टन

छछरौली : 5 हजार टन कहां कितना खुले में है गेहूं

छछरौली : 22532 टन

खिजराबाद : 18547 टन

जगाधरी : 21441 टन

सरस्वतीनगर : 12459 टन गोदामों में चावल, इसलिए ओपन में गेहूं का स्टॉक

विभिन्न एजेंसियों के पास भंडारण के लिए जो गोदाम हैं, उनमें चावल भरा हुआ है। इसलिए गेहूं को खुले में रखना पड़ रहा है। इस बार दूसरे राज्यों में चावल की डिमांड कम होने के कारण गोदामों से नहीं उठ पा रहा है। जिन गोदामों में गेहूं स्टोर की जानी थी, वहां चावल रखा हुआ है। अगला सीजन शुरू होने वाला लेकिन गोदामों में पुराने चावल का स्टॉक अभी पड़ा हुआ है। गेहूं के रख-रखाव को लेकर विभाग पूरी तरह गंभीर है। मैं स्वयं राउंड करता हूं। जो स्टॉक खुले में है, उसको अच्छी तरह ढका हुआ है। फिर भी अधिक बारिश होने के कारण होने के कारण थोड़ी-बहुत गेहूं खराब हो गई होगी। मैं चैक करवाता हूं।

सुरेंद्र कुमार, डीएफएससी, यमुनानगर।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप