जागरण संवाददाता, यमुनानगर :

कोरोना संक्रमित मरीज के स्वजनों को 64 हजार रुपये लेकर नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन देने के मामले में पुलिस ने पंजाब के मोहाली के गांव बहलोलपुर निवासी शाह नाजर को प्रोडक्शन रिमांड पर लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। आरोपित नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन की शीशी पर रेपर लगाता था। उसे पानीपत पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद से वह जेल में था। अब शहर यमुनानगर थाना पुलिस ने उसे रिमांड पर लिया है। रामपुरा चौकी इंचार्ज संदीप कुमार ने बताया कि आरोपित को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। इस मामले में अब तक पांच आरोपित गिरफ्तार किए जा चुके हैं। दरअसल, मई 2021 में वरयाम सिंह अस्पताल में 47 वर्षीय कोरोना संक्रमित महिला को दाखिल कराया गया था। उसकी हालत बिगड़ने पर तीमारदारों को डाक्टरों ने रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने को कहा था। किसी तरह से स्वजनों ने सनम वोहरा नाम के युवक का पता किया और उससे इंजेक्शन मंगवाए। 32-32 हजार रुपये के दो इंजेक्शन उन्हें मिल गए। जब वह इन इंजेक्शनों को लेकर डाक्टर के पास गए, तो पता लगा कि यह नकली हैं। इसी दौरान महिला मरीज की भी मौत हो गई थी। आरोपित सनम पहले अस्पताल में कार्य करता था। इस मामले में ड्रग आफिसर प्रवीण चौधरी की शिकायत पर शहर यमुनानगर थाना पुलिस ने केस दर्ज किया था। पुलिस ने सनम वोहरा को गिरफ्तार किया। इसके बाद शादीपुर निवासी गुरमीत सिंह को पकड़ा था। एक अन्य आरोपित को भी गिरफ्तार किया गया था। यह सभी इंजेक्शनों की सप्लाई करते थे। गुरमीत सिंह से पुलिस को पता लगा था कि उसे इंजेक्शन उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर निवासी मोहम्मद शाहवर देता था। इन आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

Edited By: Jagran