जागरण संवाददाता, यमुनानगर : सुप्रीम कोर्ट ने आज देश के सबसे चर्चित अयोध्या भूमि विवाद मामले में फैसला सुनाया। इस बारे जिले के प्रबुद्धजन से बात की गई। उन्होंने फैसले का स्वागत किया और जनता से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की। उनका कहना है कि फैसला देश के कानून के अनुसार माननीय सर्वोच्च कोर्ट ने दिया। जिसको प्रत्येक देशवासी को मानना चाहिए।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व विधायक कंवरपाल ने कहा अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है, बल्कि न्यायपालिका से जुड़ा है। जो स्वतंत्र संस्था है और कानून के अनुसार निर्णय करती है। इस बारे किसी प्रकार की अफवाह न फैलाएं। न ही बहकावे में आए। आपसी सछ्वाव बनाए रखें। इस वक्त आपसी बंधुत्व, विश्वास और प्रेम को ज्यादा मजबूत रखने की आवश्यकता है।

हरियाणा गोसेवा आयोग के सदस्य गौरव गुप्ता का कहना है। देशवासियों के लिए राष्ट्र सर्वोपरि है। देश के संविधान के अनुसार ही न्यायापालिका निर्णय करती है। हम किसी भी जाति, धर्म या समुदाय से हों, सबसे पहले भारतीय हैं। अनेकता में एकता देश की मिसाल है। इसको कायम रखना प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य व धर्म है। सभी को आपसी सद्भाव बनाए रखनी चाहिए। इसे जीत या हानि के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता भारत भूषण जुयाल ने कहा मामले का निर्णय सभी पक्षकारों के सबूतों के आधार पर कानून के अनुसार किया है। यह ऐतिहासिक फैसला है। इसमें सभी पक्षों के हितों के ध्यान में रखा गया है। मुस्लिम पक्ष को वैकल्पिक भूमि आवंटित करने का निर्णय स्वागत योग्य है। जो सभी मानना चाहिए, कोई ऐसा कार्य या बयानबाजी नहीं करनी चाहिए, जिससे आपसी प्रेम और सौहार्द बिगड़े। हम सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का स्वागत करते हैं।

केंद्रीय राज्य मंत्री रतनलाल कटारिया के निजी सचिव और भाजपा के महामंत्री राजेश सपरा का कहना है कि कोर्ट के फैसले का सभी को स्वागत करना चाहिए। हमारा देश कानून से चलता है। कानून ने ही यह फैसला दिया है। किसी को भी इस तरह का कृत्य नहीं करना चाहिए जिससे दूसरों की भावनाएं आहत हों। समाज में भाईचारा बनाए रखें। किसी भी अफवाह पर ध्यान न दें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस