जागरण संवाददाता, यमुनानगर : लॉकडाउन में प्रशासन की सख्ती केवल दुकानों को बंद कराने तक ही सीमित हो गई है। दोपहर के दो बजते ही पुलिस दुकानों को तो बंद करवा देती है लेकिन सड़कों पर घूमने वाले वाहन चालकों पर कार्रवाई करने से पुलिस बच रही है। लॉकडाउन लगे चार दिन हो चुके हैं लेकिन पुलिस ने बेवजह घूमने वाले करीब 50 लोगों पर ही केस दर्ज किया है। जबकि हर सड़क पर सैकड़ों की संख्या में लोग आना जाना कर रहे हैं। संपूर्ण लॉकडाउन की सरेआम धज्जियां उड़ रही हैं लेकिन पूरा प्रशासन मूक दर्शक बना बैठा है। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। यही वजह है कि जिले में रोजाना कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के 400 से ज्यादा केस आ रहे हैं। जिससे साफ जाहिर है कि लॉकडाउन का असर अभी दिखा नहीं है। लोग चाहे दोपहर दो बजे तक दुकानों पर सामान खरीदने के बहाने घर से निकल रहे हों या फिर बेवजह सड़कों पर घूम रहे हों। कहीं न कहीं अभी तक कोरोना संक्रमण की चेन अभी टूटी नहीं है। यह सब पुलिस व प्रशासन की ढिलाई का ही नतीजा है कि लोग सड़कों पर घूमने से बाज नहीं आ रहे। सड़कों पर भीड़ को देख कर हर कोई यही कहता है कि ऐसा लगता है जैसे लॉकडाउन लगा ही नहीं।

एसपी ने किया ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा

लॉकडाउन का पालन ठीक से हो रहा है या नहीं यह देखने के लिए शुक्रवार को एसपी कमलदीप गोयल ने ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा किया। वह साढौरा के बाद बिलासपुर में पहुंचे। उन्होंने देखा कि दो बजे के बाद बाजार में सभी दुकानें बंद हैं। क्षेत्र में थाना बिलासपुर पुलिस द्वारा की जा रही सख्ती की प्रशंसा की। उन्होंने थाना प्रभारी जोगिद्र सिंह से कहा कि वह अच्छा काम कर रहे हैं। वहीं जो लोग सड़कों पर बेवजह घूम रहे हैं उन पर कार्रवाई की जाए। दुकानों पर आने वाले ग्राहक एक दूसरे से शारीरिक दूरी बनाकर रखें। वहीं जो भी व्यक्ति बिना मास्क के घूमता दिखे उसका चालान किया जाए।

पुलिसकर्मियों को घर से लाकर पिलाई चाय

जगाधरी वर्कशाप में महर्षि वाल्मीकि चौक के नजदीक थाना फर्कपुर पुलिस ने लॉकडाउन में बेवजह घूमने वाले वाहनों चालकों पर कार्रवाई की। इस दौरान दर्जनभर लोगों के चालान किए गए। काफी लोग ऐसे हैं जो अभी भी मास्क नहीं लगा रहे हैं। जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा कम होने का नाम नहीं ले रहा। यहां सुबह से ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों के लिए विष्णु नगर निवासी लक्की व बॉबी अपने घर से चाय लेकर आए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण बाजार की सभी दुकानें बंद हैं। ऐसे में पुलिसकर्मी लोगों की सुरक्षा के लिए अपनी ड्यूटी कर रहे हैं। अब तो वह बाजार में दुकान से चाय नहीं पी सकते। इसलिए वह उनके लिए घर से चाय लेकर आए हैं।