जागरण संवाददाता, यमुनानगर : नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन के मामले में थाना शहर यमुनानगर पुलिस ने राम नगर निवासी अजय को गिरफ्तार किया है। आरोपित ने पहले गिरफ्तार फर्म संचालक को नकली इंजेक्शन दिए थे। रामपुरा चौकी इंचार्ज संदीप सिंह ने बताया कि अजय और मोहम्मद साबिर एक दवाइयों की फैक्टरी में नौकरी करते थे । अजय ने पूछताछ में बताया कि वह साबिर से नकली इंजेक्शन लेकर आया था। पुलिस को अब साबिर की तलाश है। इस मामले में इससे पहले तीन आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं ।

छह मई को सहारनपुर निवासी महिला वरयाम सिंह अस्पताल में भर्ती हुई थी। उसे कोरोना था । महिला की हालत बिगड़ी तो डाक्टर ने रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए उसके परिजनों को कहा । परिजन इंजेक्शन का इंतजाम करने में लग गए। उन्होंने रघुनाथपुरी कालोनी निवासी सनम वोहरा से संपर्क किया । उसने 32-32 हजार रुपये में दो इंजेक्शन दिए। परंतु डाक्टर ने इंजेक्शन को नकली बताया था। इंजेक्शन नहीं मिलने पर महिला ने दम तोड़ दिया। इस मामले में ड्रग कंट्रोलर प्रवीन कुमार ने शिकायत पुलिस को दी थी । शहर यमुनानगर पुलिस ने नौ मई को इस मामले में केस दर्ज किया था ।

अवैध देसी शराब के साथ दो गिरफ्तार

जासं, यमुनानगर : अवैध शराब बेचने का कारोबार करने वालों पर दबिश दी गई। जिनमें कई बोतलें शराब की बरामद की गई। दो आरोपितों को गिरफ्तार भी किया गया है। पुलिस प्रवक्ता चमकौर सिंह ने बताया कि विभिन्न स्थानों से अवैध शराब की 11 बोतल, 54 पव्वे बरामद कर मुकदमें दर्ज किए गए हैं। थाना प्रबंधक बिलासपुर प्रभारी बलबीर सिंह की टीम ने डेहा बस्ती बिलासपुर से 11 बोतल के साथ बंटी को गिरफ्तार किया। इसी तरह समता योग आश्रम जगाधरी के पास से एक व्यक्ति से 54 पव्वे बरामद किए। आरोपित की पहचान विशाल नगर कालोनी निवासी जगतार सिंह को गिरफ्तार किया।

Edited By: Jagran