अवनीश कुमार, यमुनानगर

इस बार वल्नरेबल बूथों पर पुलिस और पैरामिल्ट्री फोर्स का कड़ा पहरा रहा। किसी भी बूथ पर मोबाइल तक अंदर ले जाने पर पाबंदी रही। बाहर ही पैरा मिल्ट्री फोर्स के जवानों ने चेकिग कर मतदाताओं को अंदर आने दिया। इस दौरान कई जगह मतदाताओं की बहस भी हुई, लेकिन फोर्स की सख्ती के आगे उनकी एक न चली।

मतदान केंद्रों पर वोट डालते हुए सेल्फी या फिर संबंधित प्रत्याशी को वोट डालते हुए मोबाइलों पर फोटो लेने का काफी क्रेज है। लोकसभा चुनावों में भी इस तरह की काफी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई। उसमें मतदाताओं ने अपने प्रत्याशी के पक्ष में बटन दबाते हुए फोटो ली और उसे वायरल किया। इस बार पूरी सख्ती रखी गई। विशेषकर वल्नरेबल बूथों पर विशेष चौकसी बरती गई।

हमीदा के राजकीय स्कूल में बने मतदान केंद्र पर करीब पांच हजार वोट हैं। सबसे अधिक मतदाताओं की लाइन यही लगती है। यहां पर पैरा मिल्ट्री फोर्स तैनात रही। बाहर गेट पर ही खड़े जवानों ने किसी को भी बिना चेकिग के अंदर नहीं जाने दिया गया। सुबह करीब 10 बजे यहां पर डीसी मुकुल कुमार और एसपी कुलदीप सिंह भी निरीक्षण करने पहुंचे। यदि कोई मोबाइल लेकर आता, तो उसे भी बाहर ही कर दिया गया। यहीं पर केंद्र के बाहर ही पोलिग बूथ बताने के लिए मतदान कर्मियों की ड्यूटी लगी हुई थी। मतदाताओं ने उन्हें ही मोबाइल दे दिया। वह भी एक बैग में सभी के मोबाइल रख रहे थे। वोट डालकर आने के बाद ही उनके मोबाइल वापस दिए गए।

लापरा में छीन लिया मोबाइल

लापरा में वोट डालने के लिए आए सलीम का मोबाइल पीठासीन अधिकारी ने छीन लिया। आरोप था कि वह मोबाइल से फोटो ले रहा था। पुलिसकर्मियों ने भी उसे धमकाकर बाहर भेज दिया। काफी मिन्नतों के बाद एजेंटों ने हस्तक्षेप किया, तो उसे पुलिसकर्मी ने मोबाइल लाकर दिया।

बूड़िया बूथ में नहीं जाने दिए मोबाइल

बू़ड़िया मतदान केंद्र में आए मतदाताओं से फोन बाहर रखने के निर्देश सुरक्षाकर्मियों की ओर से दिए गए। यहां आर्मी के जवान तैनात रहे। पहली बाहर केंद्र के बाहर बैरिकेट लगाए गए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस