संवाद सहयोगी, बिलासपुर : कोरोना वायरस से बचाव के लिए क्वारंटाइन किए गए लोगों की संख्या कम हो रही है। पिछले दिनों विदेश यात्रा से लौटे 83 लोगों की पहचान कर क्वारंटाइन किया गया था।

एसएमओ डॉ. शमा प्रवीन ने बताया कि घरों में आइसोलेट लोगों की विभाग की टीम दिन में दो बार मॉनिटरिग कर रही है। किसी भी व्यक्ति के स्वास्थ्य का लेकर चिता करने की जरूरत नहीं है। बिलासपुर से 83 लोगों को क्वारंटाइन किया गया था। इनमें से 48 ने क्वारंटाइन का समय पूरा कर लिया है। 35 लोग अभी भी क्वारंटाइन में हैं। पंचायत प्रतिनिधियों को गांव में आने वाले बाहरी व्यक्ति की जानकारी अस्पताल में देने के निर्देश दिए गए हैं। कोरोना से बचाव के चलते लॉकडाउन की स्थिति में अस्पताल में कम से कम कर्मचारियों से काम चलाया जा रहा है। अधिकतर कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम के लिए छोड़ा गया है। अस्पताल में सुबह शाम क्लोरीन का स्प्रे किया जा रहा है। डॉक्टरों की बनाई मोबाइल टीम :

एसएमओ डॉ. प्रवीन ने बताया कि ब्लॉक में अपने घरों में आइसोलेट किए गए लोगों की दिन रात मॉनिटरिग की जा रही है। इसके अलावा मोबाइल टीम का गठन किया गया है। टीम में एक डॉक्टर, एक फार्मासिस्ट, एक एमपीएचडब्ल्यू व एक ड्राइवर शामिल है। भीड़ ने बढ़ाई चिता

डॉ. शमा प्रवीन ने कहा कि कोरोना बीमारी के कारण लोकडाउन में फिजिकल डिस्टेंस का पालन करने का आग्रह किया जा रहा है। वहीं, क्षेत्र के गांवों में स्थित निजी डाक्टरों के पास मरीजों की भारी भीड़ जमा होने से फिजिकल डिस्टेंस फेल साबित हो रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस