संवाद सहयोगी, बिलासपुर : मार्केट कमेटी बिलासपुर के सुपरवाइजर व आढ़ती की बातचीत का आडियो वायरल होने के बाद पुलिस अब खरीदी गई धान का रिकार्ड कब्जे में लेने की तैयारी कर रही है। पुलिस यह रिकार्ड लेगी कि सरकारी खरीद शुरू होने से लेकर जिस दिन बातचीत का आडियो वायरल हुआ तब तक कितना धान मंडी में खरीदा गया। इसके अलावा कपालमोचन में खरीदे गए जिस धान को मंडी में बेचने का सौदा तय हुआ था वहां कितनी खरीद हुई। इस मामले की जांच कर रहे डीएसपी बिलासपुर आशीष चौधरी की ड्यूटी कुछ दिनों से अंबाला में लगी हुई है। उनके लौटते ही मार्केट कमेटी से रिकार्ड कब्जे में लेने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। सुपरवाइजर को कमेटी ने किया सस्पेंड :

पुलिस की जांच इस मामले में भले ही अभी धीमी चल रही हो लेकिन मार्केट कमेटी ने अपने सुपरवाइजर अंशुल को सस्पेंड कर दिया है। दो-तीन दिन सुपरवाइजर कार्यालय में भी नहीं आ रहा था। मार्केट कमेटी सचिव सुमन लता ने आढ़ती व सुपरवाइजर की बातचीत का आडियो वायरल होने के बारे में उच्चाधिकारियों को बताया था। उन्होंने कहा था कि सुपरवाइजर गलत तरीके से अपने हितों को देखते हुए मंडी में आढ़ती का धान बिकवाने की बात कह रहा है। जिस पर कार्रवाई करते हुए मुख्यालय ने अंशुल को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए। अंशुल की जगह अभी किसी दूसरे सुपरवाइजर को नियुक्त नहीं किया गया है। बिना अनुमति के बनाया था खरीद केंद्र :

डीसी की अनुमति न होने के बावजूद आढ़तियों ने कपालमोचन में सरकारी खरीद शुरू होने के दो दिन बाद अपने आप ही नया खरीद केंद्र बना दिया था। इस केंद्र पर केवल आढ़ती आयुष गुप्ता ने ही नहीं बल्कि कईं आढ़तियों ने भी धान खरीदा था। अब जांच का विषय यह है कि जो धान कपालमोचन केंद्र पर खरीदा गया वह सभी आढ़तियों ने कहां भेजा। क्योंकि मार्केट कमेटी बिलासपुर में तो इस धान का कोई रिकार्ड ही नहीं है। कहीं ऐसा तो नहीं यह कुछ आढ़तियों का समूह हो जो बाहर धान खरीदता हो और फिर इसे नंबर दो में मंडी में बेचता हो।

एसडीएम बिलासपुर जसपाल सिंह गिल का कहना है कि इस मामले की जांच पुलिस कर रही है जांच में जो भी सामने आएगा उसी के आधार पर आगामी कारवाई अमल में लाई जाएगी। दोनों की बातचीत का आडियो हुआ था वायरल :

एक सप्ताह पहले सुपरवाइर व आढ़ती की बातचीत का आडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ था। जिसमें आढ़ती सुपरवाइजर को 18 हजार क्विंटल धान को मंडी में बिकवाने की बात कहता है। जिस पर सुपरवाइजर इस पर एक लाख 61 हजार रुपये खर्च आने की बात कहता है। इतना ही नहीं धान के मंडी में बकायदा गेट पास कटवाने तथा वहां से राइस मिल तक धान को पहुंचाने का सौदा तय होता है। आडियो वायरल होने के बाद मार्केट कमेटी बिलासपुर की सचिव सुमन लता ने सुपरवाइजर अंशुल पर थाना बिलासपुर में केस दर्ज कराया था।

Edited By: Jagran