संवाद सहयोगी, बिलासपुर : ईंट भट्ठे के चार हिस्सेदारों ने ग्राम पंचायत पिरथीपुर के चार लाख 36596 रुपये हड़प लिए। पंचायत ने इनके भट्ठे से रास्ता निर्माण के लिए ईटें मंगवाई थी। परंतु आरोपितों ने पंचायत को ईंटे देने से मना कर दिया। सालभर से वे न तो रुपये वापस कर रहे थे और न ही ईंटे दे रहे थे। अब गांव के सरपंच ने महिला समेत चार लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है।

गांव पिरथीपुर के सरपंच दीपचंद ने बताया कि गांव में कच्चा रास्ता था। बरसात के दिनों में इस रास्ते में कीचड़ हो जाता था। जिससे ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था। लोगों की समस्या को देखते हुए पंचायत ने इस रास्ते को पक्का कराने का प्रस्ताव दिया था। रास्ते के निर्माण के लिए ईटें उपलब्ध कराने के लिए गांव पिरथीपुर में ही ईट भट्ठे पर ईटों का ऑर्डर दिया था। ईट भट्ठे के हिस्सेदारों गांव बुबका निवासी प्रमिला देवी, सलिद्र कुमार, बिलासपुर निवासी बीर सिंह और चौराही गांव के रामकुमार ने कुछ दिन में सारी ईंटे गांव में पहुंचाने की बात की। पंचायत ने चार लाख 36596 रुपये आनलाइन भट्ठा मालिकों के बैंक खाते में जमा करवा दिए। आरोप है कि उक्त लोगों ने कई माह तक पंचायत को ईंटे नहीं दी। इनसे कई बार संपर्क किया गया परंतु चारों हर बार टालमटोल करने लगे। सरपंच ने काह कि कुछ दिन पहले जब वे दोबारा उनसे ईंटों के बारे में बात करने लगे तो उन्हें जान से मारने की धमकी दी। इस मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई। जिन्होंने चारों के खिलाफ थाने में केस दर्ज कराने को कहा। केस दर्ज किया गया है जांच की जा रही है

जांच अधिकारी एएसआइ सतपाल सिंह ने बताया कि सरपंच की शिकायत पर प्रमिला देवी, सलिद्र कुमार, बीर सिंह व रामकुमार के खिलाफ धोखाधड़ी व जान से मारने की धमकी देने का केस दर्ज कर लिया। मामले की जांच चल रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस