जागरण संवाददाता, यमुनानगर : ज्वेलर संजीव खन्ना के हत्यारोपित योगेश सूरी के परिवार ने खुद को कमरे में बंद कर आत्महत्या कर ली है। ऐसी अफवाह शनिवार सुबह प्रेम नगर में फैल गई। उनके घर के बाहर लोगों का जमावड़ा लग गया। इस पर थाना शहर यमुनानगर पुलिस मौके पहुंची और घर के दरवाजे तोड़ कर अंदर घुसी, लेकिन घर के अंदर कोई भी नहीं था। इससे पुलिस व पड़ोसियों ने राहत की सांस ली। बाद में पता चला कि परिवार के सदस्य किसी काम से बाहर गए हैं। वे किसी का फोन नहीं उठा रहे।

योगेश सूरी के पिता विनोद सूरी अपनी पत्नी के साथ प्रेम नगर में रहते हैं। शनिवार सुबह बाहर से कोई व्यक्ति उनसे मिलने आया था। व्यक्ति ने घर की डोर बेल बजाई परंतु अंदर से कोई भी बाहर नहीं आया। इसके अलावा दरवाजा भी खटखटाया। काफी देर तक जब कोई बाहर नहीं आया तो व्यक्ति ने इस बारे में उनके पड़ोसियों से बात की। पड़ोसी र¨वद्र, जो¨गद्र व कृष्णलाल ने उन्हें बताया कि शुक्रवार रात को तो उन्होंने विरोद सूरी को घर में जाते देखा था। वे सुबह सात बजे से भी घर के बाहर ही गली में बैठे हैं। इसलिए उन्होंने भी परिवार को बाहर जाते नहीं देख। कुछ ही देर में यह बात प्रेम नगर व आसपास के इलाकों में फैल गई। लोग कयास लगाने लगे की योगेश सूरी पर हत्या का आरोप लगने के बाद परिवार बहुत दुखी था। शायद उन्होंने घर में खुद को बंद कर आत्महत्या कर ली है। इससे पड़ोसियों की ¨चता बढ़ गई। इसकी सूचना शास्त्री कॉलोनी में रहने वाले योगेश सूरी की बेटी को भी दी गई। बेटी ने भी अपने पिता के मोबाइल पर कई बार फोन मिलाया परंतु उनका मोबाइल भी विनोद सूरी ने रिसीव नहीं किया। सूचना पाते ही वो भी प्रेम नगर में पहुंच गई। लोगों ने ही इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पाते ही थाना शहर यमुनानगर से सब इंस्पेक्टर जय किशन मौके पर पहुंचे। उन्होंने भी परिजनों को बुलाने के लिए घर का दरवाजा खटखटाया परंतु कोई जवाब नहीं आया। इसलिए पुलिस पड़ोसियों के घर से होते हुए छत पर गई। छत पर बने कमरे का दरवाजा तोड़ कर पुलिस कमरे में घुसी। पुलिस ने पूरे घर को खंगाल दिया, लेकिन अंदर विनोद सूरी व उनके परिवार का कोई भी सदस्य नहीं मिला। पुलिस ने इस बारे में लोगों को बताया तो उन्होंने राहत की सांस ली।

घर में कोई नहीं था : जय किशन

प्रेम नगर से फोन आया तो वे तुरंत टीम के साथ मौके पर पहुंच गए थे। घर से आवाज नहीं आने पर वे छत के रास्ते से अंदर गए। परंतु घर पर कोई नहीं मिला। लोगों ने सोचा की बेटे के जेल जाने के डर से परिवार ने कोई गलत कदम उठा लिया है। परंतु घर के अंदर कोई भी नहीं था।

योगेश से नहीं मिला मोबाइल

योगेश सूरी को थाना शहर पुलिस ने पांच जुलाई को कोर्ट में पेश कर पांच दिन के रिमांड पर लिया था, परंतु पुलिस उससे अब तक ये पता नहीं कर पाई की उसने मृतक संजीव खन्ना के मोबाइल कहां पर छिपाए है। ये जानने के लिए पुलिस उसे तीसरी बार रिमांड पर लिया है। ज्ञात हो कि योगेश सूरी ने 30 लाख रुपये व 13 किलो सोना न लौटाना पड़े, इसके लिए योगेश 26 जून की शाम संजीव खन्ना को अपने साथ शहजादपुर के रजपुरा की तरफ ले गया था। जहां पर उसने अपने दो साथियों राजा राम वाली गली निवासी ग्लैडविन उर्फ शंटी व रोहित के साथ मिलकर पहले तो उसका गला घोंटा और फिर हथोड़े से सिर में वार कर संजीव खन्ना को मौत के घाट उतार दिया था। थाना शहर यमुनानगर के एसएचओ नरेंद्र राणा का कहना है कि आरोपित से पूछताछ की जा रही है। जल्द ही उससे मोबाइल बरामद किए जाएंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप