जेएनएन, यमुनानगर। बिलासपुर के गांव मछरौली में अजीबो गरीब घटना हुई। गांव के 55 वर्षीय राजकुमार को मृत मान परिजन अंतिम संस्कार के लिए अस्पताल से घर ले गए। श्मशान ले जाने की सभी तैयारी कर ली गई, लेकिन शव को नहलाने की रस्म के दौरान शरीर में कुछ हरकत होने लगी। आनन-फानन में तुरंत राजकुमार को पीजीआइ चंडीगढ़ ले जाया गया, जहां पर इलाज चल रहा है।

मछरौली निवासी राजकुमार को शुक्रवार सुबह दिल का दौरा पड़ा था। परिजन उसे ट्रॉमा सेंटर ले गए। हालत में सुधार न होने पर उसे पीजीआइ चंडीगढ़ रेफर कर दिया। मगर परिजन उसे पीजीआइ ले जाने के बजाय शहर के निजी अस्पताल में ले गए। यहां डॉक्टर ने कुछ देर इलाज में सुधार न होने के कारण कहा कि अब इसमें कुछ नहीं रह गया है, इसलिए यहां से ले जाओ।

परिजनों ने समझा कि डॉक्टर ने राजकुमार को मृत घोषित कर दिया है, इसलिए वे उसे घर ले गए। गांव में पहुंचने पर अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी गई। राजकुमार की मौत का समाचार सुनकर 200 से अधिक रिश्तेदार भी गांव में पहुंच गए।

संस्कार से पहले जब राजकुमार को नहलाने लगे तो लोगों ने राजकुमार के हाथ व पैर हिलते देखे। परिजनों ने जब डॉक्टर की ओर से दी गई पर्ची को देखा तो उसमें रेफर लिखा हुआ था। इसे देखकर सभी हैरान रह गए। परिजन उसे तुरंत पीजीआइ चंडीगढ़ लेकर गए। समाचार लिखे जाने तक राजकुमार की हालत गंभीर बनी हुई थी।

यह भी पढ़ेंः पीएफ न देने वाली 705 कंपनियों की संपत्ति होगी अटैच

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप