जागरण संवाददाता, यमुनानगर : निर्धारित समय पर यदि चालान न भुगता गया तो ड्राइ¨वग लाइसेंस रद होना तय है। ई-चालानों को लेकर अब प्रशासन ने कड़ा रुख अपना लिया है। विभागों की कार्य प्रणाली की समीक्षा बैठक में उपायुक्त गिरीश अरोड़ा ने पुलिस विभाग को निर्देश दिए कि ई-चालान की कार्रवाई शुरू करें। यह सुनिश्चित करें कि चालान भुगते जा रहे हैं या नहीं। उपमंडलाधीशों को चालक लाईसेंस रद करने के लिए सूचना भेजी है या नहीं। नगर निगम अधिकारी यह चेक करें कि किस कंपोनेंट में विकास कार्यों के लिए फंड है या नहीं। जो कार्य पूर्ण हुए हैं उनके यूसी भिजवाना सुनिश्चित करें।

उन्होंने कहा कि जिले सीमा से लगे हिमाचल प्रदेश क्षेत्र में डेंगू के ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग इस बारे में लोगों को जागरूक करें व हिमाचल प्रदेश के साथ लगते जिला के क्षेत्र पर ज्यादा ध्यान रखें। इसके साथ ही पानी के सैंपल लेने के लिए भी आवश्यक कदम उठाएं। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि जिला में जो रसायनिक खाद एवं कीटनाशकों के लगभग 450 डीलर हैं, उन पर कड़ी नजर रखें, ताकि वे नीम कोटिड यूरिया किसानों को ही बेचें। समीक्षा के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी आनंद चौधरी ने बताया कि सरकारी स्कूलों में पौधगीरी कार्यक्रम के तहत 50340 पौधे तथा प्राईवेट स्कूलों में 28180 पौधे रोपित किए जा चुके हैं। मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त केके भादू, एसडीएम नवीन आहूजा, डॉ.पूजा भारती, भारत भूषण कौशिक, डीएसपी राजकुमार व पुलिस के अन्य अधिकारी, जिला राजस्व अधिकारी अभिषेक, डीडीपीओ गगनदीप ¨सह व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran