जागरण संवाददाता, यमुनानगर : उच्चतर शिक्षा विभाग ने बृहस्पतिवार को कॉलेजों में वेटिग लिस्ट तो जारी की लेकिन छात्रों को धक्कों के सिवा कुछ नहीं मिला। किसी छात्र को समझ ही नहीं आया कि दाखिले के नाम पर क्या हो रहा है। पहले कहा जा रहा था कि वेटिग लिस्ट में केवल उन्हीं विद्यार्थियों का नाम आएगा जिनका नाम पहली कटऑफ में आया था और वे किन्हीं कारणवश दाखिला नहीं ले पाए, लेकिन जिन छात्रों का दाखिला हो चुका है उन्हें छोड़ कर डीएचई (डायरेक्टर हायर एजुकेशन) ने सभी के मोबाइल पर मैसेज भेज दिए, जबकि उनका नाम पहली व दूसरी कटऑफ लिस्ट में भी नहीं आया था। इसलिए सभी छात्र कॉलेजों में दाखिला लेने पहुंच गए। वहीं कटऑफ लिस्ट में नाम नहीं आने व रजिस्ट्रेशन करवाने से वंचित रहने वाले छात्रों को दाखिला देने के लिए डीएचई ने आखिरी मौका दिया है। दाखिले के लिए बृहस्पतिवार दोपहर से ही पोर्टल खोल दिया गया। दाखिला लेने की लगी होड़, कॉलेजों ने खुद तैयार की लिस्ट

डीएचई रात ने बुधवार रात 12 बजे के बाद छात्रों के मोबाइल पर टेक्स्ट मैसेज भेज कर उन्हें दाखिला लेने के लिए कॉलेज पहुंचने को कहा। ऐसे में सुबह ही मैसेज पढ़ते ही छात्र अपने दस्तावेज लेकर कॉलेजों में चले गए। परंतु छात्रों को बताया गया कि उन्हें ऐसे दाखिला नहीं मिलेगा। जो छात्र यहां आए हैं वो अपना नाम, 12वीं में प्राप्त अंक, मोबाइल नंबर और सब्जेक्ट लिखा दें, जिसके बाद कॉलेज के स्टाफ ने सीटों की संख्या के हिसाब से उनकी मेरिट लिस्ट तैयार की। इसे मंजूरी के लिए डीएचई के पास भेजा गया। डीएचई से मंजूरी मिलने के दोपहर बाद इस लिस्ट को कॉलेजों के नोटिस बोर्ड पर लगाया गया। ऐसे में लिस्ट में अपने नाम को लेकर विद्यार्थी पूरा दिन परेशान रहे। उन्हें लिस्ट के इंतजार में घंटों कॉलेजों में बैठना पड़ा। सभी कॉलेजों ने डीएचई को भेजा पत्र

डीएचई ने सभी राजकीय और एडिड कॉलेजों को पत्र भेजकर कहा कि यदि उनके यहां किसी सब्जेक्ट व कोर्स में 50 प्रतिशत या इससे ज्यादा सीटें खाली रहती हैं तो वे अपने लेटर पैड पर उन्हें रिक्वेस्ट भेजे। ताकि उनके लिए पोर्टल को दोबारा खोला जा सके। इस पर जिला के चारों राजकीय कॉलेजों व सभी एडिड कॉलेजों ने डीएचई को पोर्टल खोलने के लिए पत्र लिखा है। जिन छात्रों का नाम अभी पहली व दूसरी कटऑफ लिस्ट में नहीं आया या फिर दाखिला लेने से वंचित रह गए हैं उनके नाम को वेटिग लिस्ट में डाल दिया जाएगा। वहीं जिन छात्रों ने अभी तक किसी दाखिले के लिए रजिस्ट्रेशन ही नहीं करवाया था वे भी पोर्टल पर जाकर न्यू रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। वेटिग लिस्ट व न्यू रजिस्ट्रेशन वाले छात्र उसी दिन कॉलेज में फीस जमा करवा कर दाखिला ले सकेंगे। दूसरी लिस्ट में नाम नहीं आने से खाली रही सीटें

नौ जुलाई को डीएचई दूसरी कटऑफ को ठीक तरह से प्रकाशित नहीं कर सका। इसमें केवल 328 छात्रों के ही नाम आए थे। आधा दर्जन कॉलेज तो ऐसे थे जिनके एक भी छात्र का नाम लिस्ट में नहीं आया। इस कारण सभी कॉलेजों में सीटें खाली रह गई। डीएवी ग‌र्ल्स कॉलेज में अभी 45 प्रतिशत दाखिले ही हो पाए हैं। इसी तरह एमएलएन कॉलेज यमुनानगर में बीएससी के सभी विषयों की आधी से ज्यादा सीट खाली हैं। जबकि राजकीय कॉलेज अहड़वाला में बीएससी, बीसीए व बीकॉम में भी सीटें खाली पड़ी हैं। राजकीय कॉलेज सरस्वती में भी ऐसा ही हाल है। बृहस्पतिवार को केवल दो छात्र ही दाखिला लेने पहुंचे। सभी छात्रों को मौका मिलेगा : एसपी गिरोत्रा

राजकीय कॉलेज छछरौली के प्राचार्य और जिला उच्च शिक्षा अधिकारी एसपी गिरोत्रा का कहना है कि कॉलेजों में अभी आधे से ज्यादा सीटें खाली हैं। इसलिए डीएचई के आदेशानुसार दोबारा पोर्टल खोलने के लिए पत्र लिखा था। पोर्टल खुल गया है। जिन छात्रों का नाम वेटिग लिस्ट में है और नए रजिस्ट्रेशन हैं उन्हें दाखिले के लिए मौका मिलेगा।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran