यमुनानगर, जागरण संवाददाता। डेंगू के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। 14 और नए मरीज मिले हैं। अब जिले में 157 मरीज हो गए हैं। जिससे स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ी हुई है। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने रैपिड फीवर सर्वे शुरू कर दिया है। इस माह में अब तक 33 हजार 115 घरों का सर्वे हो चुका है। जहां पर बुखार के मरीज मिल रहे हैं। उनके खून के सैंपल लेकर जांच के लिए भिजवाए गए हैं। इससे आने वाले समय में मरीजों की संख्या और भी बढ़ सकती है।

वहीं चिकित्सक लोगों को एहतियात बरतने की सलाह दे रहे हैं, क्योंकि पिछले दिनों बेमौसम बरसात हुई। जिससे खाली पड़े प्लाटों व छतों पर पड़े पुराने बर्तनों में भी पानी जमा हो गया है। जिससे डेंगू का लार्वा पनपने की संभावना अधिक रहती है। इसलिए अभियान चलाकर लोगों को भी घरों व आसपास जमा पानी को साफ करने की अपील की जा रही है।

33 हजार 115 घरों का हुआ सर्वे

स्वास्थ्य विभाग की टीम 33 हजार 115 घरों का सर्वे कर चुकी है। जहां पर कूलरों, एसी, फ्रिज व छतों पर पड़े पुराने सामान और गमलों की जांच की गई। यदि कही पर पानी जमा है, तो उसे साफ कराया गया। वीरवार को 14 हजार 117 घरों का सर्वे किया गया। जिसमें शहरी क्षेत्र में 1661 व ग्रामीण क्षेत्र के 12 हजार 456 घरों का सर्वे किया गया।

रैपिड फीवर सर्वे भी किया गया शुरू

स्वास्थ्य विभाग हर माह एक से दस तारीख तक रैपिड फीवर सर्वे चलाता है। इस माह के लिए भी रैपिड फीवर सर्वे शुरू कर दिया गया है। जिसके तहत संदिग्ध मरीजों की जांच की जाती है। यदि कोई बुखार से पीड़ित है, तो उसका भी सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाता है। यदि किसी में डेंगू के लक्षण हैं, तो उसका तुरंत इलाज शुरू कराया जा सके।

जिला मलेरिया अधिकारी डा. सुशीला सैनी ने बताया कि अब रोजाना डेंगू के नए मरीज मिल रहे हैं। रैपिड फीवर सर्वे भी शुरू कर दिया गया है। जिसके तहत बुखार के मरीजों के सैंपल लेकर जांच के लिए भिजवाए जा रहे हैं। इस मौसम में लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। रात को मच्छरदानी लगाकर सोना चाहिए।

Edited By: Anurag Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट