जागरण संवाददाता, यमुनानगर :

डेंगू व वायरल बेलगाम हो रहा है। लगातार मरीज बढ़ रहे हैं। सोमवार को पांच और नए मरीज मिले हैं। अब जिले में मरीजों की संख्या बढ़कर 72 पर पहुंच गई है। डेंगू के प्रकोप का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले पांच सालों का रिकार्ड टूट चुका है। अभी मरीज और भी बढ़ने की संभावना है, क्योंकि 85 और सैंपलों की रिपोर्ट लंबित है। निजी अस्पतालों में भी इस समय डेंगू व वायरल के ही अधिक मरीज आ रहे हैं। सिविल अस्पताल की ओपीडी में भी रोजाना 200 से 250 मरीज वायरल के आ रहे हैं।

लगातार बढ़ रहे डेंगू के मरीजों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सर्वे तेज कर दिया है। अब तक चार लाख 54 हजार 118 घरों में डेंगू के लार्वा की जांच की जा चुकी है। जिसमें पांच हजार 838 घरों में डेंगू का लार्वा मिला है। इन्हें नोटिस दिए गए हैं। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीमें भी लगातार लोगों को जागरूक कर रही है। घरों व आसपास में जहां पर पानी एकत्र होता है। वहां पर सफाई रखने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। कूलरों, फ्रिज व छतों पर पड़े पुराने सामान में भी पानी जमा हो जाता है। जिसमें ही डेंगू का मच्छर पनपने की संभावना रहती है। इसलिए लोगों से लगातार यही अपील की जा रही है कि वह अपने आसपास ऐसे स्थानों पर पानी न जमा होने दें। इन जगहों पर मिले मरीज :

विकासनगर कालोनी, त्यागी गार्डन, छछरौली, भीलछप्पर व फतेहपुर में डेंगू के नए मरीज मिले हैं। अब तक जिले से 1301 सैंपल डेंगू के आशंकित मरीजों के लिए गए हैं। जिनमें से 72 मरीज पाजिटिव आए हैं। दस मरीज निजी अस्पतालों के हैं। प्लेटलेट की बढ़ रही मांग :

डेंगू के मरीजों की प्लेटलेट गिरने लगती है। इस समय डेंगू फैल रहा है। मरीजों को प्लेटलेट की जरूरत पड़ रही है। जिससे मांग बढ़ी हुई है। हालांकि वायरल में भी प्लेटलेट गिर रही है। ऐसे मरीजों को भी प्लेटलेट की जरूरत पड़ रही है। सिविल अस्पताल के ब्लड बैंक से रोजाना 25 से 30 यूनिट मरीजों को दी जा रही है। निजी अस्पतालों की बात करें, तो यहां से भी मरीजों के लिए रोजाना 100 से 150 काल विभिन्न रक्तदानी संगठनों के पास पहुंच रही है। यह है डेंगू की स्थिति : वर्ष - डेंगू मरीज 2016 - 65 2017 - 70 2018 - 42 2019 - 51 2020 - 42 2021 - 72

Edited By: Jagran