जागरण संवाददाता, यमुनानगर : आठ वार्डों में स्ट्रीट लाइटों की शिकायत के मामले में विधानसभा की पीटिशन कमेटी मंगलवार सुनवाई करेगी। निगम अधिकारी संबंधित रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे। रिपोर्ट तैयार करने के लिए अधिकारी कई दिन से जुटे हुए हैं। इन वार्डों में कुल 8100 लाइटें लगाई जानी हैं। इनमें से केवल तीन हजार लाइटें ही लग पाई हैं। बाकी 5100 लाइटों को लगाने का प्रक्रिया अब एजेंसियों को जल्द शुरू करने की बात कही जा रही है। संबंधित एक एजेंसी ने काम शुरू कर दिया है जबकि दूसरी को तीसरा नोटिस दिया गया है। यह दिए गए थे आदेश

विधानसभा की पीटिशन कमेटी की ओर से गठित टीम के सदस्य सीनियर डिप्टी मेयर प्रवीण कुमार, पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर पवन बिट्टू व गिरीश पुरी इस मामले में दो बार अधिकारियों व ठेकेदार की बैठक ले चुके हैं। गत 24 फरवरी को हुई सुनवाई के दौरान संबंधित कंपनी के अधिकारियों को भी कड़े निर्देश जारी किए गए थे। यह सुनिश्चित किया गया था कि प्री-डिस्पेच इंस्पेक्शन के बाद ही लाइटों की डिलीवरी होगी। कंपनी को बकायदा पर्याप्त गारंटी देनी होगी। जल्द ही शहर में स्ट्रीट लाइटों की व्यवस्था को पूरी तरह दुरुस्त कराया जाए। इसमें किसी तरह की अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लेकिन अधिकारियों के मुताबिक बाद में लाकडाउन के कारण प्रक्रिया पर ब्रेक लग गया। यह है मामला

मार्च-2020 में नगर निगम के वार्ड नंबर-दो, छह, आठ, नौ, 10, 15, 19, 21 में स्ट्रीट लाइट लगाए जाने की प्रक्रिया शुरू हुई। हर वार्ड में करीब एक हजार स्ट्रीट लाइटें लगाई जानी हैं। ठेकेदार ने लाइट लगाने का काम शुरू ही किया था कि निगरानी कमेटी के सदस्यों व पार्षदों ने लाइटों की गुणवत्ता और टेंडर प्रक्रिया पर सवाल उठा दिए और काम रुकवा दिया गया। इसकी शिकायत कमिश्नर, मेयर व विधायक को गई। सीनियर डिप्टी मेयर प्रवीण कुमार व पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर पवन कुमार ने संबंधित शिकायत विधानसभा की पिटीशन कमेटी को दी थी। बता दें कि इस मामले में नगर निगम में आए डेपुटेशन पर आए दो अधिकारियों को उनके मूल विभाग में भेजा जा चुका है।

एक एजेंसी ने शुरू किया काम

नगर निगम अधिकारियों के मुताबिक आठ वार्डों में लाइटों के लगाने का काम दो एजेंसियों के पास है। एक एजेंसी ने काम शुरू कर दिया है। लेकिन दूसरी एजेंसी ने अभी शुरू नहीं किया। बताया जा रहा है कि इस एजेंसी को तीसरा नोटिस दिया जा चुका है। यदि तय समय पर काम शुरू नहीं हुआ तो पैनल्टी भी लगाई जा सकती है। इन वार्डों में स्ट्रीट लाइटों को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। हाउस की बैठकों में यह भी यह मुद्दा उठ चुका है।

स्ट्रीट लाइटों के मामले को लेकर मंगलवार को विधानसभा की पीटिशन कमेटी में सुनवाई होनी है। निगम की ओर से संबंधित रिपोर्ट पेश कर दी जाएगी।

धर्मवीर सिंह, कमिश्नर, नगर निगम।

Edited By: Jagran