जागरण संवाददाता, यमुनानगर : डीएवी ग‌र्ल्स कॉलेज के एप्लाइड योगा एंड हेल्थ विभाग द्वारा योग एंव मधुमेह पर राष्ट्रीय जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत गांव बैंडी के माध्यमिक स्कूल में योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। डा. ईश्वर भारद्वाज ने विद्यार्थियों को मधुमेह के कारण व उपायों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। विभाग के प्राध्यापक सोनी कुमार ने साधकों को योगाभ्यास व प्राणायाम का अभ्यास करवाया। साथ ही उन्हें प्राकृतिक चिकित्सा, भू-गर्भ चिकित्सा और मालिश का अभ्यास भी करवाया गया।

कालेज के योग विभाग की प्राध्यापिका डा. अनुजा रावत ने कहा कि नियमित योगाभ्यास के जरिए जहां तनाव से मुक्ति पाई जा सकती है। वहीं बड़ी से बड़ी बीमारी को भी ठीक किया जा सकता है। नियमित योगाभ्यास, प्राणायाम तथा ध्यान करने से शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक स्वास्थ्य की प्राप्ति के साथ-साथ सामाजिक स्वास्थ्य की भी प्राप्ति होती है। जिससे समाज के अच्छे नागरिक बनने में योगदान दिया जा सकता है। योग विभाग के प्राध्यापक सोनी कुमार ने साधकों को सूर्य नमस्कार,ताडासन, तिर्यक ताडासन, कटिचक्रासन, नटराजासन, हस्तोत्तानासन, पादाहस्तासन, मंडूकासन, वज्रासन, नौकासन, गौमुखासन, धनुरासन, भुजंगासन, मार्जरीसन, व्याघ्रासन, ¨सहगर्जासन आदि आसनों का अभ्यास करवाया। इसके अलावा उन्होंने विभिन्न तरीकों से ताली बजाना सीखाया। क्योंकि ताली बजाना स्वास्थ्य की कुंजी है। ताली बजाने से समस्त शरीर में रक्त संचार की गति बढ़ जाती है। जिससे उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। सभी अंक सुचारू रूप से अपना कार्य करने लग जाते हैं। जिससे रोग होने की संभावना नहीं रहती। प्राणायाम के दौरान साधकों को अनुलोम-विलोम, नाड़ी शोधन, भ्रामरी, भस्त्रिका और ओम का उच्चारण करवाया गया। ओम को उच्चारण करने से मन एकाग्र होता है, साथ ही जीवन की शक्ति बढ़ती है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस