जागरण संवाददाता, यमुनानगर :

आयुष्मान योजना के कार्ड बनाने के लिए अब आशा व वीएलई (विलेज लेवल इंटरप्रेन्योर) पात्रों के घर पहुंचेंगे। 31 मार्च तक आयुष्मान आपके द्वार पखवाड़ा चलेगा। इसका उद्देश्य अधिक से अधिक पात्रों के कार्ड बनाने का है। इसको लेकर शनिवार को आयुष्मान योजना के डिप्टी सीईओ डा. रवि विमल ने आशा को-ऑर्डिनेटर व अटल सेवा केंद्रों के जिला प्रबंधक समेत आयुष्मान योजना की टीम के साथ बैठक की।

जिले में सूची के हिसाब से चार लाख 24 हजार 50 लोग योजना के पात्र हैं, लेकिन अभी तक एक लाख 80 हजार पात्रों के ही कार्ड बन सके हैं। ऐसे में यह संख्या बढ़ाने और पोत्रों को योजना का लाभ दिलाने के लिए अब सभी आशाओं व वीएलई के साथ मिलकर अभियान चलाया जा रहा है। डिप्टी सीईओ डा. रवि विमल ने कहा कि अभी भी जिले के बहुत से क्षेत्रों में लाभार्थियों को योजना के बारे में जानकारी नहीं है। उनके कार्ड नहीं बने हैं। योजना के हर लाभार्थी का कार्ड बनाया जाना जरूरी है। इसलिए सभी अटल सेवा केंद्रों के को-ऑर्डिनेटर वीएलई के माध्यम से हर गांव में पात्रों के कार्ड बनाएं। प्रत्येक पात्र को कार्ड निशुल्क उपलब्ध कराए जाए। सिविल सर्जन डा. विजय दहिया ने बताया कि आशाओं व वीएलई पर इस योजना का अधिक दारोमदार है। वह हर घर में जाए और सूची के हिसाब से पात्रों के कार्ड बनाए। एक दिन में 900 कार्ड बनेंगे

जिले में करीब 300 अटल सेवा केंद्र हैं। यदि एक केंद्र पर रोजाना तीन कार्ड भी बनते हैं, तो 900 पात्रों के कार्ड एक दिन में बनेंगे। इसलिए इस अभियान को गंभीरता से चलाएं। नोडल अधिकारी डा. अश्वनी अलमादी ने कहा कि आयुष्मान योजना में पात्रता जानने के लिए टोल फ्री नंबर 14555 पर काल कर सकते हैं। वेबसाइट पीएमजीओवी पर भी पात्रता का घर बैठे पता किया जा सकता है। इस दौरान उप सिविल सर्जन डा. पूनम चौधरी, डिस्ट्रिक इंफारमेशन मैनेजर अंशुमन शर्मा, डिस्ट्रिक मैनेजर नवीन दत्ता, एनएचएम से सूरजभान सहित आदि भी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran