जागरण संवाददाता, यमुनानगर : आज व कल 88 हजार आवेदक जिला में हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन की होने वाली ग्रुप-डी की परीक्षा देंगे। परीक्षा के लिए 68 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। ऐसा पहली बार हुआ है कि जिले में किसी परीक्षा के लिए इतने केंद्र बनाए गए हों। इतना ही नहीं पहली बार बिलासपुर में भी परीक्षा होगी। बिलासपुर के विभिन्न स्कूल, कॉलेजों में 10 सेंटर बनाए गए हैं। ग्रुप-डी की परीक्षा को देखते हुए रोडवेज ने पंजाब व उत्तर प्रदेश समेत अन्य लंबे रूट पर जाने वाली बसों को बंद कर दिया है। इन बसों को टाइम टेबल के अनुसार न चलाकर परीक्षार्थियों के हिसाब से चलाया जाएगा।

एक समय में 21984 परीक्षार्थी देंगे परीक्षा

ग्रुप डी की परीक्षा सुबह व शाम दो चरणों में होगी। सुबह के समय परीक्षा 10.30 बजे से दोपहर 12 बजे तक, जबकि शाम की परीक्षा 3 से 4.30 बजे तक होगी। परीक्षा केंद्र में आवेदकों की एंट्री निर्धारित समय से डेढ़ घंटा पहले होगी, क्योंकि एडमिट कार्ड पर जो क्यूआर कोड है उसे केंद्र के गेट पर ही टैब से स्कैन किया जाएगा ताकि ये स्पष्ट हो सके कि आवेदक की जगह कोई दूसरा तो पेपर देने नहीं आ रहा। दोनों दिन एक बार में 21984 आवेदक परीक्षा देंगे। जगाधरी व यमुनानगर में 17136 व बिलासपुर में 4848 परीक्षार्थी देंगे। परीक्षा केंद्रों की बात करें तो कुल 68 केंद्रों में से यमुनानगर में 27, जगाधरी में 31 व बिलासपुर में 10 केंद्र बनाए गए हैं। इस तरह चार बार में करीब 88 हजार आवेदक सेंटर पर पहुंचेंगे।

पहली बार क्लास वन ऑफिसर लेकर जाएंगे प्रश्न पत्र

पेपर शुरू होने से लेकर खत्म होने तक किसी तरह की गड़बड़ी न हो इसके लिए एचएसएससी ने परीक्षा में कुछ बदलाव किए हैं। इस बार ट्रेजरी कार्यालय से प्रश्न पत्र क्लास वन ऑफिसर लेकर जाएंगे। पहले क्लास टू अधिकारी प्रश्न पत्र लेकर जाते थे। क्लास वन ऑफिसर ही अपनी निगरानी में सभी आंसर शीट जमा करवाएंगे। डीसी ने ग्रुप डी की परीक्षा का ओवरऑल इंचार्ज एडीसी केके भादू को बनाया है। बिलासपुर में होने वाली परीक्षा के लिए नोडल ऑफिसर एसडीएम बिलासपुर नवीन आहूजा व जगाधरी-यमुनानगर के लिए एसडीएम जगाधरी भारत भूषण कौशिक होंगे। डीसी, डीईओ व एचएसएससी की फ्लाइंग टीमें परीक्षा केंद्रों पर औचक निरीक्षण करेंगे। इसके अलावा सभी केंद्रों पर एचएसएससी का एक-एक प्रतिनिधि भी मौजूद रहेगा।

50 विशेष बसें चलाई जाएंगी

परीक्षा को लेकर रोडवेज ने भी खास तैयारी कर ली है। दूसरे जिलों से आने वाले आवेदकों को आने-जाने में किसी तरह की दिक्कत न हो इसके लिए 50 विशेष बसें चलाई जाएंगी। ये बसें लुधियाना, अमृतसर, हरिद्वार, कटरा के अलावा हिसार व हांसी समेत अन्य रूटों से हटाई जाएंगी। यानि 10 व 11 नवंबर को इन रूटों पर रोडवेज के टाइम टेबल के अनुसार बसें नहीं चलाई जाएंगी। दोपहर तक लगभग सभी बसें बंद रहेंगी। यमुनानगर डिपो के जीएम र¨वद्र पाठक ने बताया कि ये बसें परीक्षा देने वाले आवेदकों के हिसाब से चलाई जाएंगी। जिस रूट के लिए ज्यादा भीड़ होगी बसों को वहां चला दिया जाएगा।

शहर पर भारी पड़ने वाले हैं दो दिन

ग्रुप डी की परीक्षा शनिवार व रविवार दो दिनों के लिए शहर पर भारी पड़ने वाली है। क्योंकि बाहर दूसरे जिलों से 88 हजार परीक्षार्थी व इनके सहयोगी अपनी बाइक, कारों व बसों में आएंगे। इससे शहर में जाम लगना स्वाभाविक है। आमतौर पर जब जिला में 14-15 हजार परीक्षार्थी आते हैं तो शहर में कई घंटे जाम लगा रहता है, लेकिन इस बार दिक्कत ज्यादा होने वाली है। ट्रैफिक पुलिस ने इससे निपटने के लिए कोई खास योजना भी तैयार नहीं की है। ट्रैफिक एसएचओ ओम प्रकाश का कहना है कि किसी को दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। दो गाड़ियां गश्त करती रहेंगी।

परीक्षा के लिए तैयारी पूरी है : एडीसी

परीक्षा के ओवरऑल इंचार्ज एडीसी केके भादू ने बताया कि दो दिन होने वाली ग्रुप डी की परीक्षा के लिए हमारी सभी तैयारियां पूरी हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप